3 महीने बाद भी आरोपी पर कार्रवाई नहीं अब मैं अनशन करके जान दूंगी: पीड़िता

भोपाल। शिवाय नगर स्थित शासकीय जे पी अस्पताल में डॉक्टरों की लापरवाही से मरीज की मौत हो गई थी जिसकी शिकायत मृतक की बेटी के द्वारा शासन प्रश्न व अस्पताल प्रबंधन को भी की गई थी 3 महिने बाद भी कोई कार्यवाही नहीं की गई । जिससे शिकायत करता के द्वारा अनशन पर बैठने कर आत्महत्या करने कहा है। 
राजधानी के जेपी हॉस्पिटल में तीन महीने पहले कोरोना संक्रमित महिला संतोष रजक की मौत मामले में बेटी ने स्टाफ पर लापरवाही के आरोप लगाए थे। इस मामले में अब तक कार्रवाई नहीं होने से महिला की बेटी प्रियंका ने धरना देने का ऐलान किया है। उसका कहना था कि अस्पताल में लापरवाही के चलते मैंने अपनी मां को खोया है। जांच के नाम पर कुछ नहीं हुआ है। 
प्रियंका का कहना था कि मैंने मंत्री विश्वास सारंग से मां की मौत के पहले 20 सितंबर और 22 सितंबर को मिलकर हॉस्पिटल की असुविधाओं के बारे में अवगत करवाया था। 2 दिन बाद 24 सितंबर को मां की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मु आश्वासन दिया गया कि एक्शन लिया जाएगा। मगर स्वास्थ कमिश्नर और विभागीय अधिकारी बचते नजर आ रहे हैं।
प्रियंका ने कहा कि 3 महीने से भटक रही हूं। मुझे न्याय नहीं मिल रहा है। सीएम हेल्पलाइन पर भी मेरी शिकायतों को उच्च अधिकारी से बात करके सीएचएमओ ने बंद करवा दिया। शासन की ओर से अपराधियों को बचाया जा रहा है। अगर मेरी मांग पूरी नहीं की गई तो जहां मेरी मां की मौत हुई है, वहां मैं अनशन पर बैठकर अपनी जान दे दूंगी।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post