विदेशी फटाखों के अवैध भण्डारण, बिक्री करने पर दुकान की जाएगी सील

भोपाल । दीपावली त्यौहार के दौरान आतिशबाजी के संबंध में सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों एवं विस्फोटक अधिनियम 1984 एवं नियम 2008 के निर्देशों का सख्ती से पालन कराने एवं आवश्यक सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित कराने के लिए कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया ने संबंधित क्षेत्र के एसडीएम के नेतृत्व में निरीक्षण दल का गठन किया है। दल निरीक्षण के साथ नियमों की अवहेलना या अव्यवस्था पाए जाने पर तत्काल कार्यवाही करेगा। विदेशी फटाखों के भण्डारण, बिक्री एवं वितरण पर निगरानी रखी जाएगी। विदेशी फटाखों के अवैध भण्डारण एवं बिक्री पर दुकान को तत्काल सील कर अनुज्ञप्ति निरस्त करने की कार्यवाही की जाएगी। निरीक्षण दल निर्धारित चैक लिस्ट के अनुसार स्थल पर कोई अव्यवस्था पाये जाने पर तत्काल कार्यवाही करेंगे।


 श्री लवानिया ने प्रदूषण विभाग द्वारा निर्धारित मापदण्ड अनुसार आतिशबाजी के लिए आम लोगों में जागरूकता लाने के लिये पर्याप्त प्रचार-प्रसार किये जाने के निर्देश दिए गए। इस के लिए पुलिस के यातायात व्यवस्था, विभिन्न चौराहों पर आदि स्थल पर लगाये गये। स्क्रीन पर आतिशबाजी के समय एवं अन्य सुरक्षा संबंधी उपाय का आवश्यक प्रचार-प्रसार किया जाएगा। नगर के विभिन्न मुख्य स्थानों पर जहां नगर निगम के होर्डिग्स पर भी आवश्यक प्रचार-प्रसार किया जाए। साथ ही सर्वोच्च न्यायालय के आदेश का एफ.एम. रेडियो के माध्यम से भी प्रचार-प्रसार कराया जाएगा। आतिशबाजी रात 8 से 10 बजे के मध्य ही की जा सकेगी। इसका प्रचार-प्रसार भी उपयुक्त सभी के माध्यम से किया जाएगा। थाना प्रभारी अपने-अपने क्षेत्र में निगरानी रखेंगे। आतिशबाजी सामूहिक रूप से कम्यूनिटी सेंटर अर्थात खुले मैदानों पर ही की जाए।


 


 सुतली बम एवं सीरीज बम की बिक्री एवं भण्डारण प्रतिबंधित


 


  ऐसी आतिशबाजी जो 125 डीबी या 145 पीके से अधिक का ध्वनिमान 4 मीटर की दूरी पर उत्पन्न करती है का निर्माण, विक्रय एवं प्रयोग प्रतिबंधित है। अतः न तो इसका विक्रय किया जा सकेगा न ही इसका भण्डारण किया जा सकेगा। साथ ही सीरीज बम तथा सुतली बम का भी न तो विक्रय किया जाएगा तथा ना ही भण्डारण किया जा सकेगा। समस्त आतिशबाजी व्यापारी अपने-अपने प्रतिष्ठान पर एक बड़ा फ्लेक्स लगायेंगे। जिस पर आतिशबाजी का समय एवं अन्य सुरक्षा संबंधी उपाय का उल्लेख रहेगा। समस्त आतिशबाजी विक्रेताओं को यह भी निर्देशित किया गया है कि पर्याप्त मात्रा मे पेम्पलेट, भी प्रिन्ट करायेंगे एवं उसका वितरण सभी ग्राहकों को बिल के साथ करेंगे। कोविड-19 विश्व महामारी को दृष्टिगत रखते हुए राज्य शासन द्वारा समय-समय पर जारी दिशा-निर्देशों का पालन सुनिश्चित करें। विस्फोटक नियम 2008 अनुसार थोक आतिशबाजी 1500केजी एवं 500केजी की दो दुकानों के मध्य 15 मीटर की दूरी होना आवश्यक है। 50 के.जी. आतिशबाजी दुकानों के मध्य 03 मीटर की दूरी होना आवश्यक है। 


 


  फटाखा व्यापारी अपनी-अपनी दुकानों से लगाकर अन्य किसी भी प्रकार की छोटी दुकान जैसे बच्चों के तमंचा, टिकली, मोमबत्ती एवं दीपक इत्यादि की दुकानें नहीं लगने देंगे। सभी थोक व्यवसायी किसी भी प्रकार की दुर्घटना की स्थिति से निपटने के लिए आकस्मिक उपाय करने जैसे अग्निशमन यंत्र, सीज फायर, रेत की बाल्टियां, पानी आदि हमेशा दुकान के आस-पास पर्याप्त मात्रा मे रखेगें। 


 


  आतिशबाजी दुकानदार दुकानों में आतिशबाजी के खाली खोखे, बारदाना दुकानों के सामने एवं आस-पास नही रखेंगे। कोई भी दुकानदार दुकान के बाहर न तो आतिशबाजी रखेगें और न ही डिस्प्ले करेंग। पूरी आतिशबाजी पैकिंग के रूप मे एवं ब्राण्डेड होनी चाहिये। कोई भी 1500 के०जी० वाले थोक व्यवसायी किसी भी प्रकार से रिटेल व्यवसाय नही करेंगे। फायर अधिकारी, नगर निगम, भोपाल कोई भी दुकानदार दुकान के आस-पास किसी भी प्रकार की आतिशबाजी की टेस्टिंग नही करायेंगे। आतिशबाजी मार्केट एवं अन्य आतिशबाजी की दुकानों पर किसी भी प्रकार का धूम्रपान नही किया जाए इस बाबत् सभी दुकानदार नोटिस अपनी दुकान पर चस्पा करेंगे। कोई भी दुकानदार अपनी दुकानों के आगे किसी भी प्रकार के वाहनों की पार्किंग ना तो स्वयं करेगा अथवा ना ही किसी व्यक्ति को पार्किंग करने देगा। लगेज ऑटो आदि भी दुकानों से पर्याप्त दूरी पर खड़े किए जाएंगे एवं वाहन पार्किंग के लिए गार्ड की व्यवस्था की जाएगी। 


  सभी आतिशबाजी विक्रेताओं की दुकानों पर बिजली की वायरिंग खुली न हो एवं प्रत्येक मास्टर स्विच से फ्यूज़ या सर्किट ब्रेकर लगा होना चाहिए जिससे की शॉट सर्किट होने पर विद्युत प्रवाह स्वतः ही बन्द हो जाए। आतिशबाजी दुकानों की सुरक्षा हेतु दुकान मे आवश्यक रूप से फायर फाइटिंग सेंसर एवं वॉटर स्प्रिंक्लर्स सिस्टम एवं फायर एस्टिंगविर्श्स का उपयोग करेगा। साथ ही ग्रीन फटाखों का विक्रय एवं उसके उपयोग हेतु प्रचार-प्रसार करेगा। कोविड-19 विश्व महामारी को दृष्टिगत रखते हुए दुकान मे कार्यरत सभी कर्मचारी तथा आतिशबाजी क्रेताओं को अनिवार्य रूप से मास्क एवं सैनिटाईजर का उपयोग कराना व सोशल डिस्टेंसिंग के सभी मानकों का पालन करना भी अनिवार्य होगा। 


  समस्त आतिशबाजी विक्रेता) समस्त एस.डी.एम. अपने-अपने क्षेत्र के थाना प्रभारी एवं थोक व्यवसायी/रिटेल व्यवसायों के साथ एक बैठक आयोजित करेगें एवं माननीय सर्वोच्च न्यायालय के आदेश का पालन सुनिश्चित करें। समस्त एस.डी.एम. अपने-अपने क्षेत्र मे लगने वाले रिटेल मार्केट का स्वयं पुलिस प्रशासन एवं फायर आफिसर के साथ आतिशबाजी विक्रय स्थलों का निरीक्षण करेंगे एवं उसी अनुसार अस्थाई दुकानें आवंटित करेंगे। यह भी आवश्यक रूप से सुनिश्चित करें। कि किसी भी लायसेंसी द्वारा अपना लायसेंस किसी अन्य व्यक्ति को अन्तरण तो नही किया गया है। ऐसी स्थिति पाये जाने पर दुकान को तत्काल बंद करावाकर उसके विरूद्ध आपराधिक प्रकरण दर्ज करेगें। किसी भी दुकानदार द्वारा लोकल कम्पनी अथवा जो शासन से मान्यता प्राप्त न हो उनकी आतिशबाजी ना तो दुकानों पर रखी जाएगी ना ही विक्रय की जावेगी। ब्राण्डेड आतिशबाजी ही भण्डारण एवं विक्रय की जा सकेगी। 


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post