शिक्षक और विद्यार्थी स्वच्छता के लिए बनाएं अभूतपूर्व वातावरण : कियावत

भोपाल। स्वच्छता में भोपाल को नम्बर एक बनाने में विद्यार्थी और शिक्षक समाज में सफाई के प्रति अभूतपूर्व वातावरण बना सकते हैं । संभागायुक्त और प्रशासक नगर निगम कवींद्र कियावत ने आज मंगलवार को वर्ष 2021 स्वच्छता सर्वेक्षण में शिक्षा विभाग की सहभागिता सुनिश्चित करने के लिए कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे । उन्होंने आव्हान किया कि अपनी शैक्षणिक गतिविधियों, पठन-पाठन के साथ सर्वेक्षण में अपना अमूल्य योगदान दें और विद्यार्थियों को इस दिशा में तैयार करें । सुभाष उत्कृष्ट विद्यालय में सम्पन्न कार्यशाला में कियावत ने कहा कि शिक्षा क्षेत्र के अग्रणी विद्यार्थी ही अंतिम लक्ष्य तक पहुंचने का एक सशक्त माध्यम हैं जो किसी भी चुनौती के लिए तैयार रहते हैं । कार्यशाला में जन शिक्षक और संकुल सम्मलित हुए । इस मौके पर संयुक्त संचालक शिक्षा राजीव तोमर, अपर आयुक्त नगर निगम एमपी सिंह, जिला शिक्षा अधिकारी नितिन सक्सेना, उत्कृष्ट विद्यालय के प्राचार्य सुधाकर पाराशर सहित विभिन्न संकुलों के प्राचार्य सहित शिक्षक गण उपस्थित थे । श्री कियावत ने कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 में भोपाल शहर को प्रथम लाने के लिए शासकीय-अशासकीय विद्यालयों के शिक्षक ऑनलाइन क्लासेस के माध्यम से विद्यार्थियों को स्वच्छता सर्वेक्षण में अपने आस पास के लोगों को जागरूक करने के लिए प्रेरित करें । अपने आस पास मोहल्ले, कॉलोनी के लोगों को इसके लिए जागरूक करें। ताकि स्वच्छता के सर्वे में भोपाल शहर की एक अलग पहचान बने । शैक्षणिक गतिविधियों के अलावा वालंटियर्स के रूप में स्वच्छता सर्वेक्षण में सहयोग करें । शहर को स्वच्छ और सुंदर बनाने की दिशा में एक अभिनव प्रयास करें । अपने आस पास लोगों को जोड़ें ताकि अधिक से अधिक संख्या में लोग इस अभियान से जुड़कर भोपाल को स्वच्छता सर्वेक्षण में नंबर वन पर ला सकें । 


 


       श्री कियावत ने कहा कि इस अभियान को सशक्त और मजबूत बनाने के लिए भोपाल को स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रथम पायदान पर पहुचाएं । उन्होंने कहा कि शिक्षक ही शिक्षा की प्रेरणा से कई कठिन कार्य और लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं । सकारात्मक सोच से ही व्यक्ति में बदलाव लाया जा सकता है । विद्यार्थी सामाजिक दायित्व का निर्माण कर औरों को भी जागरूक कर सकते हैं । आगामी वर्ष 4 से 31 जनवरी तक स्वच्छता सर्वेक्षण सर्वे में भोपाल को प्रथम बना सकते हैं । उन्होंने कहा कि शिक्षक भी अपने सहयोग से इस कार्य को बेहतर ढंग से करें । उन्होंने कहा कि भोपाल को अलग पहचान दिलाने के लिए प्रत्येक भोपाल के रहवासी को स्वच्छता बनाए रखने और अपने आसपास सफाई रखने के लिए संकल्प लेना चाहिये । इसके उपरांत उन्होंने शिक्षकों को स्वच्छता की शपथ भी दिलाई।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post