सरकार पर भारी PWD के भ्रष्ट अधिकारी

सतना । लोक निर्माण विभाग के भ्रष्ट अधिकारियों की निगरानी में हवाई पट्टी उपखंड में अब तक हुए करोड़ों की लागत के गुणवत्ता विहीन निर्माण कार्यों की जांच का मामला फिलहाल ठंडे बस्ते में हैं। विदित हो कि सत्ता पक्ष के सतना सांसद गणेश सिंह सहित रैगांव विधायक जुगुल किशोर बागरी व मऊगंज विधायक प्रदीप पटेल ने गुणवत्ता विहीन निर्माण कार्यों का मामला पूरे दमखम के साथ उठाया था और इसकी उच्च स्तरीय जांच करवाते हुए दोषी अधिकारियों के खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही की मांग भी की थी। सत्तापक्ष के इन कद्दावर नेताद्वयों की कथित मांग पर लोक निर्माण विभाग के मंत्री गोपाल भार्गव द्वारा मामले की जांच के आदेश दिए गए थे। 


 


मजे की बात तो यह रही कि लोक निर्माण विभाग के मंत्री गोपाल भार्गव सहित सत्तापक्ष के कद्दावर नेताओं की इस मामले में की गई कथित पहल की यहां कोई कद्र नहीं हुई। जांच तो दूर, आज तक कोई भी टीम गुणवत्ता विहीन हुए निर्माण कार्यों का निरीक्षण तक करने नहीं पहुची। हां, दिखावे के लिए इतना जरूर हुआ कि मामले में लिप्त तथाकथित भ्रष्ट अधिकारियों को कुछ समय तक के लिए इधर-से-उधर स्थानांतरित किया गया और फिर अपनी पकड़ और पहुच के चलते सब-के-सब विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों की कृपा से अपनी-अपनी जगह पर यथावत भी हो गए। 


 


करोड़ों रूपये की लागत से हवाई पट्टी उपखंड में हुए गुणवत्ता विहीन निर्माण कार्यों की जांच से लोगों का ध्यान हटाने लोक निर्माण विभाग में भ्रष्ट अधिकारियों को स्थानांतरित करने की कोशिश बस की गई और इसके सिवाय कुछ भी नहीं। विभागीय सूत्रों की मानें तो लोनिवि के कार्यपालन यंत्री बीके विश्वकर्मा, एसडीओ बृजेश सिंह व उपयंत्री एके निगम जैसे अधिकारियों ने विभाग को भ्रष्टाचार का अखाड़ा बनाकर रख दिया है। इन पर आखिर किनकी कृपा बरस रही है, यह तो पता नहीं चला। पर इतना जरूर है कि ये तीनों अधिकारी, सत्तापक्ष के मंत्री गोपाल भार्गव सहित सांसद गणेश सिंह एवं विधायकद्वय जुगुल किशोर बागरी व प्रदीप पटेल पर पूरी तरह से भारी पड़ रहे हैं। 


 


यह है पूरा मामला


हवाई पट्टी मामले में लोनिवि मंत्री गोपाल भार्गव ने जांच के आदेश दिए। इसके बाद विभाग के प्रमुख सचिव नीरज मंडरोई, ईएनसी अग्रवाल व उप सचि


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post