खेलो इंडिया ‘‘स्टेट सेंटर आॅफ एक्सीलेंस’’ मध्यप्रदेश को स्वीकृत किये 19 करोड़

खेल मंत्री ने प्रदेश को देश में सबसे ज्यादा राशि स्वीकृत करने पर केन्द्र सरकार का माना आभार


भोपाल । भारत सरकार की उच्च स्तरीय समिति ने मध्य प्रदेश राज्य खेल अकादमी शूटिंग, रोइंग तथा हाॅकी को भविष्य के चैम्पियन तैयार करने के लिए अनुमोदित किया है। उल्लेखनीय है कि देश के चुनिन्दा छह राज्यों के प्रशिक्षण केन्द्रों को खेलों इंडिया ‘‘स्टेट सेंटर आॅफ एक्सीलेंस’’ के लिए चुना था, विवरण निम्नानुसार है:-


1. मध्य प्रदेश - मध्य प्रदेश राज्य अकादमी शूटिंग, रोइंग तथा हाॅकी।


2. असम - स्टेट स्पोट्र्स अकादमी सारासुजाई स्पोट्र्स काॅम्पलेक्स, गुवाहाटी।


3. दादरा और नगर हवेली तथा दमन और दीव - न्यू स्पोट्र्स काॅम्पलेक्स, सिल्वासा।


4. महाराष्ट्र - श्री शिव छत्रपति शिवाजी स्पोट्र्स काॅम्पलेक्स, बालेवाड़ी पुणे।


5. मेघालय - जे.एन.एस. स्पोट्र्स काॅम्पलेक्स, शिलोंग।


6. सिक्किम - पालजोर स्टेडियम, गंगटोक।


 


देश के चुनिंदा 6 राज्यों के स्टेट सेन्टर आॅफ एक्सिलेन्स में मप्र को स्वीकृत की गई सबसे ज्यादा राशि


  


भारत सरकार द्वारा विभाग की शूटिंग, हाॅकी और रोइंग अकादमी को खेलो इण्डिया सेन्टर आॅफ एक्सिलेन्स के लिए चिन्हित किया था। इस वित्तीय वर्ष में वायबल गेप फण्डिंग के लिए 23.61 करोड़ का प्रस्ताव भारत सरकार को प्रेषित किया गया था।


भारत सरकार द्वारा प्रस्ताव का विस्तृत विष्लेषण करने के उपरांत राषि रू. 19 करोड़ स्वीकृत किया है। पुणे राज्य को मध्यप्रदेश के बाद सबसे ज्यादा राषि रू. 16 करोड़ स्वीकृत किया है।


यहां यह उल्लेखनीय है कि भारत सरकार द्वारा 6 राज्यों को स्टेट सेन्टर आॅफ एक्सिलेन्स खेल सेन्टरों को योजना के अंतर्गत चिन्हित किया था। चिन्हित सेन्टरों को स्वीकृत राषि का विवरण विवरण निम्नानुसार है:-


क्र सेन्टर के नाम स्वीकृत राषि


1 म.प्र. राज्य खेल अकादमी 19 करोड़


2 एस.एस. काॅम्प्लेक्स वालेबाड़ी, पुणे 16 करोड़


3 जे.एन.एस. काॅम्प्लेक्स, शिलांग 8.39 करोड़


4 न्यू स्पोर्ट्स काॅम्लेक्स, सिलवासा 8.05 करोड़


5 स्टेट स्पोर्ट्स अकादमी, सारूसजाई (गोवाहाटी) 7.96 करोड़


6 पालजोर स्टेडियम गंगटोक 7.91 करोड़


 केन्द्र सरकार ने यह राशि म.प्र. को स्पोर्ट्स सांइस उपकरण, स्पोर्ट्स सांइस एक्पर्ट एवं प्रशिक्षक, खेल से संबंधित उच्च गुणवत्ता के उपकरण हेतु स्वीकृत किया है।


माननीया मंत्री खेल यशोधरा राजे सिंधिया की पहल पर वर्ष 2006 में मध्यप्रदेश राज्य खेल अकादमी की स्थापना की गई थी। उनके अथक प्रयासों से मध्यप्रदेष खेलों में अग्रणी राज्यों की श्रेणी मे आ गया है। देश में मध्य प्रदेश राज्य खेल अकादमी अब रोल माॅडल बन गई हैं। मंत्री खेल यशोधरा राजे सिंधिया की पहल पर राज्य खेल अकादमी वर्ष 2006-07 में स्थापित हुई थी।


छत्तीसगढ़, राजस्थान, गोवा, मेघालय, नागालैण्ड और ओड़िशा जैसे राज्य मध्य प्रदेश राज्य खेल अकादमी माॅडल का अनुसरण कर रही है। वर्तमान में प्रदेश की खेल अधोसंरचना देश की सर्वश्रेष्ठ खेल अधोसंरचना में गिनी जाती है। राज्य शूटिंग अकादमी विश्वस्तरीय अधोसंरचना से सुसजित हैं। हाॅकी अकादमी में भी अंतर्राष्ट्रीय स्तर की सभी सुविधाएं उपलब्ध है। मध्य प्रदेश राज्य खेल अकादमी का वाटर स्पोट्र्स सेंटर भी देश के सर्वश्रेष्ठ वाटर स्पोट्र्स सेंटर में गिना जाता है।


 मंत्री खेल ने मध्य प्रदेश खेल अकादमी को सर्वाधिक राशि स्वीकृत करने पर केन्द्र सरकार का माना आभार खिलाड़ियों को दी बधाई। 


मध्य प्रदेश राज्य शूटिंग, हाॅकी और रोइंग अकादमी की उपलब्धियाँ


मध्य प्रदेश राज्य शूटिंग अकादमी में देश के ख्याति प्राप्त प्रशिक्षक मनशेर सिंह, जसपाल राणा, सुश्री सुमा शिरूर उच्च स्तरीय प्रशिक्षक प्रशिक्षण दे रहे है। शूटिंग अकादमी के खिलाड़ियों ने अब तक राष्ट्रीय स्तर पर 165 स्वर्ण, 176 रजत और 178 कांस्य सहित कुल 519 पदक तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 20 स्वर्ण, 28 रजत और 33 कांस्य सहित कुल 81 पदक अर्जित किए है। खिलाड़ियों द्वारा अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में 187 बार भागीदारी की है। अकादमी की शूटिंग खिलाड़ी चिंकी यादव तथा एश्वर्य प्रताप सिंह ने भारत को टोक्यो ओलम्पिक के लिए कोटा दिलाया है।


इसी तरह पुरूष हाॅकी अकादमी के खिलाड़ियों ने अब तक राष्ट्रीय स्तर पर एक स्वर्ण, तीन रजत और तीन कांस्य सहित कुल 7 पदक तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 3 स्वर्ण, एक रजत सहित कुल 4 पदक अर्जित किए है। कुल आठ बार अंतर्राष्ट्रीय भागीदारी रही है। हाॅकी अकादमी भोपाल में 1980 ओलम्पिक की पदक विजेता टीम के सदस्य रहे द्रोणाचार्य तथा अर्जुन अवार्डी खिलाड़ी एवं प्रशिक्षक श्री राजिन्दर सिंह मध्य प्रदेश हाॅकी अकादमी के खिलाड़ियों को खेल की बारीकियां सिखा रहे हैं।


मध्य प्रदेश वाॅटर स्पोट्र्स (रोइंग) अकादमी के खिलाड़ियों ने अब तक राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में 34 स्वर्ण, 30 रजत और 29 कांस्य सहित कुल 93 पदक तथा अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में एक स्वर्ण, पाँच रजत और एक कांस्य सहित कुल 7 पदक अर्जित किए है। 14 बार अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में खिलाड़ियों की भागीदारी रही है। रोइंग अकादमी के प्रशिक्षक कैप्टन दलबीर सिंह अर्जुन अवार्डी है, इनके मार्गदर्शन में मध्य प्रदेश सीनियर राष्ट्रीय चैम्पियन बना।


संचालक खेल पवन कुमार जैन ने मध्य प्रदेश खेल अकादमी को देष में सबसे ज्यादा राषि स्वीकृत करने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए बताया कि निश्चित ही यह मध्य प्रदेश के लिए उपलब्धि भी है और उच्च स्तर पर जाने का अवसर भी है। उन्होंने सभी को बधाई दी।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post