अच्छे प्रशिक्षण से ही प्रोबेशनर, कुशल अधिकारी बनते है: कियावत

भोपाल। अच्छे प्रशिक्षण और परिवीक्षा के दौरान प्रशिक्षण को गंभीरता से पूर्ण करने वाले अधिकारी ही कुशल अधिकारी बनते है इसी बात को ध्यान में रखकर संभागायुक्त कवीन्द्र कियावत द्वारा संभाग के सभी पांचों जिलों में पदस्थ लोक सेवा आयोग से चयनित परिवीक्षाधीन डिप्टी कलेक्टर और नायब तहसीलदार का टेस्ट कम ट्रेनिंग सत्र का आयोजन किया गया |


 


संभागायुक्त ने इन अधिकारियों के 7 समूह बनाकर उनके द्वारा अब तक किये गए कार्यो और आ रही कठिनाईयों से अवगत हुए ।इन अधिकारियों को आम जनता के कार्यों और उन्हें करने के तरीकों को विस्तार से बताया गया। श्री कियावत ने अधिकारियों के साक्षात्कार की निगरानी की और मार्गदर्शन भी दिया | वे सभी समूहों के अधिकारियों की टेबिल पर आमजन की तरह समस्याएं लेकर गए और कार्यवाही करने का स्तर देखा। जरूरत अनुसार उन्होंने बाद में आवश्यक सुधार भी कराये।


 


 अपने तरह के इस अनूठे आयोजन में अनुभवी वरिष्ठ राजस्व अधिकारियों के 7 पैनल द्वारा विदिशा, सीहोर, रायसेन, भोपाल एवं राजगढ़ के 50 परिवीक्षाधीन डिप्टी कलेक्टर एवं नायब तहसीलदारों की प्रशिक्षण गतिविधियों का आकलन किया गया ।आकलन के दौरान प्रशिक्षण देने और प्रशिक्षण लेने में पायी गयीं कमियों को नियमों का व्यवहारिक प्रशिक्षण देकर दूर किया जायेगा । 


 


परिवीक्षाधीन अधिकारियों को समझाईश और ट्रेनिंग के प्रमुख विषयों पर पुनः ट्रेनिंग भी दिलाई जाएगी | 


श्री कियावत द्वारा किये जा रहे, इस नवाचार से परिवीक्षाधीन अधिकारी खुश थे। कुरवाई विदिशा में पदस्थ एस. डी. एम. सुश्री आरती यादव का कहना था, कि ट्रेनिंग के दौरान ही कार्य की व्यस्तता में कभी- कभी ट्रेनिंग के मुख्य मुद्दे छूट जाते हैं, आज के इंटरव्यू से वो मुद्दे सामने आये, साथ ही इससे कुशलता बढ़ाने में मदद मिलेगी |


 


 


 


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post