त्योहारों के सीज़न अगरबत्तियों की मांग में 30 फीसदी बढ़ोतरी का अनुमान

मुंबई! त्योहारों के सीज़न की शुरूआत के साथ आॅल इंडिया अगरबत्ती
मैनुफैक्चरर्स एसोसिएशनश् ने अनुमान लगाया है कि आगामी त्योहारों
में अगरबत्तियों की बिक्री में 30 फीसदी बढ़ोतरी होगी। इससे जहां एक ओर
अगरबत्ती निर्माताओं को फायदा होगा, वहीं दूसरी ओर इस उद्योग पर निर्भर
लाखों वंचित महिलाओं को भी लाभ मिलेगा।
इस अवसर पर श्री अर्जुन रंगा, अध्यक्ष, ने कहा, ‘‘गणेश चतुर्थी की शुरूआत
से नववर्ष तक का समय अगरबत्ती उद्योग के लिए बेहद महत्वपूर्ण होता है।
हालांकि इस बार सार्वजनिक समारोहों एवं पूजा आयोजनों पर कई प्रकार के
प्रतिबंध लगाए गए हैं, लोग अपने घर में रहकर अपने परिवारजनों के साथ ही सभी
परम्पराओं और रीति-ंरिवाजों के साथ त्योहारों का जश्न मनाना चाहते हैं।
अगले 3 महीने में अगरबत्ती, धूप एवं इस तरह के अन्य उत्पादों की मांग
बढ़ने का अनुमान है। इसके अलावा अच्छे मानसून को देखते हुए ग्रामीण
क्षेत्र में भी सुधार होगा और हमारी सरकार द्वारा घरेलू उद्योगों को
बढ़lवा देने के प्रयास भी उद्योग जगत के लिए फायदेमंद साबित होंगे। हमारा
मानना है कि आगामी त्योहारों के दौरान मांग में 30 फीसदी बढ़ोतरी
होगी।’’
‘‘त्योहारों की मांग को देखते हुए ज़्यादातर निर्माताओं ने उत्पादन
प्रक्रिया तेज़ कर दी है, ऐसे में ज़रूरी कच्चे माल जैसे चारकोल, बांस एवं होस
पाउडर की उपलब्धता भी महत्वपूर्ण है। हमें उम्मीद है कि त्योहारों
की शुरूआत के साथ हम सरकार से प्राप्त सहयोग के द्वारा इस उपलब्धता को सुगम बना
सकेंगे अेार देश के उपभोक्ताओं की धार्मिक परम्पराओं एवं
रीति-ंरिवाज़ों संबंधी ज़रूरतों को पूरा कर सकेंगे।’’ श्री अर्जुन रंगा ने
बताया।
यह साल का वह समय है जब उद्योग जगत नए खुशबूदार प्रोडक्ट लेकर आता है,
उपभोक्ताओं की ज़रूरतों को ध्यान में रखते हुए त्योहारों के इस सीज़न
में अगरबत्तियों की व्यापक रेंज बाज़ार में उतारी जाती है। गुलाब, चंदन और
चमेली की पारम्परिक खुशबू से युक्त अगरबत्तियों की मांग अधिक बनी हुई है।
इस साल विशेष फ्यूज़न आधारित खुशबु जैसे वुडी अम्बर और फ्रूटी फ्लोरल
खुशबु वाली अगरबत्तियों की मांग बढ़ने की भी उम्मीद है।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post