सस्ते मोबाइल देने के नाम पर ठगी करने वाले गिरफ्तार

भोपाल । राजहर्ष कालोनी कोलार रोड़ के कुबेर निवारे जो कि प्रायवेट नौकरी करते है ने शिकायत की, कि उनके मोबाइल पर अनजान मोबाइल नम्बर से काल आया और बात करने वाले ने अपने आप को एमआई रेडमी कंपनी का रिप्रेजेन्टेटिव बताते हुये आँफर के तहत रेडमी नोट एट/टू मोबाइल फोन जिसकी असल कीमत करीबन 25000/- रुपये है को मात्र 4500/- रुपये में देने का बताया और पेमेन्ट डिलीवरी के बाद करना बताया। फिर 3 अगस्त2020 को आवेदक के घर पर पोस्टमेन एक पैकेट लेकर आया जिसे आवेदक 4500/- रुपये का पैमेन्ट कर प्राप्त किया। जब आवेदक नें पैकेट को खोला तो उसके अंदर मोबाइल के स्थान पर गत्ते के टुकडे रखे मिले। जिसके बाद आवेदक शिकायत आवेदन दिया गया।   


 शिकायत आवेदन की जाँच पर तथ्यो की पुष्टी होना पाये जाने से धारा 420,34 भादवि का पंजीबद्ध किया जाकर विवेचना में लिया गया। जिसमें जांच कर जानकारी जुटाई गई कि दिल्ली में बैठकर इस गिरोह के लोग ठगी करते है। संदेहियो की तलाश पतारसी हेतु साई कृष्णा थोटा पुलिस अधीक्षक दक्षिण, द्वारा निर्देश दिये गये और पुलिस टीम का गठन किया जाकर टीम को दिल्ली भेजा गया।  कोलार पुलिस टीम द्वारा लगातार दो दिन तक दिल्ली में रहकर संदेहियो की मोबाइल लोकेसन से पीछा करती रही तद्उपरांत पुलिस टीम द्वारा घेराबंदी कर इनको पकडा गया संदेही अनाम हैदर, जफर खान से की गई पूछताछ में सामने आया कि आरोपीगण ने नांगलोई, नजबगढ रोड़ नई दिल्ली में किराये का मकान लेकर रखा था और वही से लोगो को ब्राण्डेड मोबाइल आफर के तहत सस्ते में बेचे जाने का झांसा देते थे जब व्यक्ति मोबाइल लेने के लिये राजी हो जाता तो उसका पता लेकर मोबाइल पैकेट के आकार का एक पैकेट तैयार कर डाक से भेज देते थे जो पैकेट डाक से खरीददार के घर पहुंचता था और खरीददार मोबाइल की कीमत डाकिया को दे देता था फिर आरोपी अपने संबंधित डाकघर से उस रकम को ले लेते थे।
पूछताछ में आरोपीगण नें यह भी बताया कि वह गूगल पर किसी भी मोबाइल कंपनी के सिम नम्बर की सीरीज डालकर कुछ मोबाइल नम्बर हासिल कर लेते थे फिर उन्ही मोबाइल नम्बरो के आगे पीछे अंक बदलकर लोगो को आफर के नाम पर सस्ते में मोबाइल देने का झांसा देकर धोखाधड़ी करते थे। आरोपीगण ने बीकाँम तथा बीकाम (आनँर्स) की पढाई दिल्ली विश्वविघालय से की है जो मूलतः दरभंगा बिहार के रहने वाले है। जो कि इस तरह का धंधा चलाने के मास्टर माइंड है। आरोपीगण द्वारा लोगो से साथ धोखाधडी कर दिल्ली में ही अपने-अपने मकान भी बना लिये है। आरोपीगण काफी समय से इस प्रकार के गोरखधंधे में लिप्त थे तथा कई लोगो को चूना लगा चुके है। इन्हे स्वयं भी याद नही कै कि इन्होने कितने लोगो के साथ ठगी की है। कोलार पुलिस द्वारा भोपाल एवं आसपास के जिलो में सूचना देकर इस प्रकार के अपराध के शिकार हुये व्यक्तियो की जानकारी भी लेना शुरु किया है।
 आरोपीगण से अन्य मामलो का खुलासा होने की भी पूर्ण संभावना है। वरिष्ठ अधिकारियो द्वारा इस कार्यवाही में लगी टीम को नगद इनाम से पुरुस्कृत करने की घोषणा की है।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post