समय पर निराकरण किया जाए राजस्व प्रकरणों में

भोपाल। कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया ने  राजस्व अधिकारियों की  बैठक में निर्देश दिए कि सभी अधिकारी राजस्व प्रकरणों को समय-सीमा में निपटाए, किसी प्रकार से 6 माह से अधिक समय के प्रकरण लंबित नही रहे। अविवादित नामांतरण,बंटवारा, और सीमांकन के प्रकरण को 1 माह में निपटाए जाए। 


कलेक्टर श्री लवानिया ने सभी एसडीएम और तहसीलदार,  राजस्व पुस्तको का अध्ययन करें, नियमों को बेहतर तरीके से समझ ले और नियमों का बेहतर तरीके से क्रियान्वित करें।


 *बैठक अपर कलेक्टर, एसडीएम और तहसीलदार उपस्थित रहें* 


  आज की बैठक में आने पर सभी एसडीएम ने राजस्व संहिता के भूमि आवंटन नियमों के अलग-अलग बिंदुओं के बारे में जानकरी दी और उसके संबंध में व्यापक चर्चा की। जिसमें बताया गया कि नगरीय, ग्रामीण क्षेत्र में भूमि का अलग-अलग प्रयोजन के लिए भूमि का आवंटन किस प्रकार किया जा सकता है। कौन से प्रकरण में भू-भाटक जमा किया जाना है और किस प्रकरण में नहीं दिया जा रहा है। शासन स्तर पर भूमि का आवंटनों की के कार्यवाही किस प्रकार से होगी और कौन से प्रकरणों में कलेक्टर स्तर पर कार्यवाही शुरू की जा सकती है।


कलेक्टर ने सभी राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिए कि शासकीय भूमि पर अतिक्रमण हटाने के लिए निरन्तर कार्यवाही करते रहे। सभी एसडीएम और तहसीलदार राजस्व क्षेत्रो का लेंड बैंक तैयार कर भूमि के प्रयोजन  सम्बन्ध में अपनी रिपोर्ट दे जिससे उक्त भूमि का सही उपयोग सुनिशिचत किया जा सके। 


कलेक्टर श्री लवानिया ने कहा कि राजस्व अधिकारी लगातार क्षेत्रो का भ्रमण करते रहे।आरबीसी के अंतर्गत मुआवजा प्रकरणो में तुरन्त कार्यवाही की जाए। भूमि अधिग्रहण और अन्य प्रकरणों की आई नई गाइड लाइन का अध्ययन करें। वर्षा के समय सभी अधिकारियों ने बेहतर काम किया है कही भी कोई बड़ी दुर्घटना नहीं होने दी उसके लिए सभी अधिकारियों की शाबासी दी और कोरोना संक्रमण काल में भी सभी ने समन्वय का अच्छा उदाहरण प्रस्तुत किया है।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post