ब्लू डार्ट ने कोविड-19 के खिलाफ राष्ट्र के संघर्ष में विशिष्ट तापमान नियंत्रित लॉजिस्टिक्स समाधान सुदृढ़ किया

फिलहाल लाइफ साइंसेज, हेल्थकेयर और क्लीनिकल परीक्षण क्षेत्रों के लिए सशक्त आपूर्ति श्रृंखला समाधान उपलब्ध करा रहा है। 
ब्लू डार्ट वैक्सीन क्षेत्र के लिए रीफर व्हीकल (कोल्ड चेन) सेवाएं मुहैया करा रहा है, ताकि इनको सुविधाजनक ढंग से एक जगह से दूसरी जगह भेजा जा सके। 
डीपीडीएचएल समूह के हिस्से के रूप में यह सीमा पार क्षमताओं के साथ ज्यादा बड़ा अंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क ऐक्सेस कर सकता है। 
ब्‍लू डार्ट की तापमान नियंत्रित लॉजिस्टिक्‍स (टीसीएल) समाधान तापमान सम्बन्धी विभिन्न अपेक्षाओं को हैंडल करने की क्षमता से लैस है। फ्रोजेन : -800 सेंटीग्रेड से -200 सेंटीग्रेड तक, बहुत ठंडा : 20 सेंटीग्रेड से 80 सेंटीग्रेड तक, परिवेशी : 150 से 250 डिग्री सेंटीग्रेड तक


मुंबई ।  भारत के प्रमुख एक्सप्रेस लॉजिस्टिक्स सेवा प्रदाता और ड्यूश पोस्ट डीएचएल ग्रुप (डीपीडीएचएल) के अंग, ब्लू डार्ट वैश्विक महामारी का मुकाबला करने के लिए आपूर्ति श्रृंखला को बेहतर बनाने और समय पर चिकित्सीय सामग्रियों की उपलब्धता सुनिश्चित करने की दिशा में अपने पूर्व-विद्यमान विशिष्ट तापमान नियंत्रित लॉजिस्टिक्स (टीसीएल) के साथ अपने बुनियादी सुविधाओं में वृद्धि कर रहा है। ब्लू डार्ट इसके बाद लाइफ साइंसेज और क्लीनिकल परीक्षण क्षेत्र के लिए समग्र आपूर्ति श्रृंखला समाधान मुहैया कराएगा। इसके अलावा, वह वैक्सीन क्षेत्र के लिए रीफर व्हीकल (कोल्ड चेन) सेवा उपलब्ध कराएगा ताकि बगैर किसी दिक्कत के इनका परिवहन सुनिश्चित किया जा सके। 
कोविड-19 की वैक्सीन का विकास जिस तरह छलांग लगाकर विभिन्न चरणों में आगे बढ़ रहा है, उसे देखते हुए हर चरण में इसके परिवहन और भंडारण के लिए तापमान संबंधी अपेक्षाएं (-80 डिग्री सेल्सियस तक) काफी महत्वपूर्ण होगी। राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर कोविड-19 की अरबों वैक्सीन और निश्चित तापमान की जरूरत रखने वाले अन्य फार्मा उत्पादों की सुरक्षित और तेज आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए एक कुशल और विशेषज्ञ नेटवर्क जरूरी होगा। 
ब्लू डार्ट ने अपने मौजूदा तापमान नियंत्रित लॉजिस्टिक्स समाधान को वैक्सीन और मेडिकल सैंपल जैसे विविध नाजुक उत्पादों के परिवहन के लिए सफलतापूर्वक लागू किया है। टीसीएल की टीम उत्पादों की सुरक्षित और तेज डिलीवरी के लिए तीन उद्योग आधारित वर्गों के साथ काम करती है। ये हैं, क्लीनिकल अनुसंधान संगठन (सीआरओ), वैक्सीन/परीक्षण किट विनिर्माता और सक्रिय फार्मा घटक। नेट प्रमोटर अप्रोच विधि के जरिये कराए गए ब्लू डार्ट के उपभोक्ता फीडबैक पर रिसर्च के अनुसार, ब्लू डार्ट ने अपने टीसीएल समाधानों के लिए सफलतापूर्वक 100 फीसदी का एक नेट प्रमोटर स्कोर (एनपीएस) प्राप्त किया। ब्लू डार्ट का यह स्कोर इसकी अन्य सेवाओं के 99.6 फीसदी के एनपीएस स्कोर से कहीं अधिक है। 


ब्लू डार्ट में बिजनेस डेवलपमेंट के सीएमओ और हेड श्री केतन कुलकर्णी ने कहा कि, “स्वास्थ्य सम्बन्धी आपात स्थिति के दौरान महत्वपूर्ण मेडिकल आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए सही साझेदारी जरूरी है। हम कई ऐसे फार्मास्युटिकल संगठनों के साथ सक्रियता के साथ काम कर रहे हैं, जो भारत में कोविड-19 वैक्सीन के उत्पादन के लिए क्लीनिकल परीक्षण कर रहे हैं। ये संगठन वैक्सीन के उत्पादन की अपनी यात्रा के अलग-अलग चरणों में हैं। डीपीडीएचएल ग्रुप के हिस्से के तौर पर ब्लू डार्ट लाइफ साइंसेज और हेल्थकेयर लॉजिस्टिक्स बिजनेस का विशेषज्ञ है और एक बड़े वैश्विक लॉजिस्टिक्स नेटवर्क का हिस्सा है, जो अपने ग्राहकों को सर्वश्रेष्ठ सेवाएं देने के लिए अपनी सभी सहयोगी इकाईयों की क्षमता का उपयोग करने में सक्षम बनाता है।”
उन्होंने आगे कहा कि, “एक बार वैक्सीन के बन जाने के बाद कई चीजों पर एक साथ ध्यान देना होगा। निश्चित तापमान की जरूरत वाली वैक्सीनों के रख-रखाव के लिए भंडारण, पैकेजिंग व परिवहन, क्षेत्रीय वितरण की क्षमताएं, तापमान प्रबंधन, सामाजिक उपकरणों की जरूरत और प्रशिक्षित कर्मचारियों की उपलब्धता पर फोकस करने की जरूरत होगी। एक बेहद सक्रिय रेस्पॉन्स टीम हमारी वर्तमान क्षमताओं का आकलन कर रही है। इसके अलावा तापमान नियंत्रित लॉजिस्टिक्स समाधानों के लिए समर्पित बोईंग 757 एयरक्राफ्ट के हमारे मजबूत बेड़े का एक सशक्त बुनियादी ढांचा है, जिसकी बदौलत हम बड़ी से बड़ी मांग को पूरा करने में पूरी तरह सक्षम और तैयार हैं।”उस


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post