भोपाल दुग्ध संघ ने कोविड के बावजूद किया अच्छा प्रदर्शन

लगभग 3 लाख किलो ग्राम प्रतिदिन दूध का संग्रहण - साढ़े 9 करोड़ लाख अर्जित 


 भोपाल : दुग्ध संघ ने कोविड-19 की विभीषिका के बावजूद बेहतर नतीजे दिए हैं। संघ ने दुग्ध उत्पादन के साथ मुनाफा भी अर्जित किया है तथा पशु-पालकों को भी फायदा पहुँचाया है।  वर्ष 2019-20 में 2588 सहकारी दुग्ध समितियों के माध्यम से औसतन 2.94 लाख किलोग्राम प्रतिदिन दूध का संकलन किया गया एवं सहकारी दुग्ध समिति द्वारा राशि रूपये 9.51 करोड़ का शुद्ध लाभ अर्जित किया गया। संघ के संचालित 313 कृत्रिम गर्भाधान केन्द्रों द्वारा 1.46 लाख कृत्रिम गर्भाधान वर्ष के दौरान संपादित किये गये। भोपाल दुग्ध संघ के प्रशिक्षण केन्द्र मंे समय-समय पर‍ शिक्षण, प्रशिक्षण एवं अभिप्रेरण कार्यक्रम के अंतर्गत 502 दुग्ध समिति सदस्यों, कर्मचारियों को प्रशिखण दिया जाकर लाभांवित किया गया। इसी तरह संघ द्वारा वर्ष के दौरान शहरी उपभोक्ताओं को औसतन 3.48 लाख लीटर प्रतिदिन स्थानीय बाजार में पैकेट्स में दूध विक्रय किया गया1 इसके साथ-साथ डेयरी संयंत्र में निर्मित साँची ब्राण्ड के दुग्ध उत्पाद स्थानीय उपभोक्ताओं की मांग अनुरूप उपलब्ध कराये गये। मध्यप्रदेश शासन द्वारा मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम में संघ के कार्यक्षेत्र के ब्लॉक स्तर पर प्राथमिक शालाओं एवं आंगनवाड़ी केन्द्रों के छात्र-छात्राओं के लिये 397 मी.टन सुगंधित मीठा दुग्ध पाउडर संघ द्वारा प्रदाय किया गया।
 प्राधिकारी अधिकारी  कवीन्द्र कियावत द्वारा समस्त संघ प्रतिनिधियों से अनुरोध किया कि प्राथमिक सहकारी समिति स्तर पर अपमिश्रित दूध को किसी भी परिस्थिति में प्रोत्साहित न कर दुग्ध संघ की छवि के साथ-साथ साँची ब्राण्ड की छवि की यथावत बनाये रखने में सहयोग प्रदान करें।
 वित्तीय वर्ष 2019-20 के अंतिम माह से लेकर वर्तमान तक कोविड-19 के कारण लॉक डाउन के दौरान दुग्ध संकलन एवं दुग्ध विक्रय निर्बाध रूप से जारी रहा, इसके लिये संघ के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के प्रयास सराहनीय है।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post