प्रदेश में 4 दिन तक बारिश का रहेगा दबाव

भोपाल। आंध्र प्रदेश के तट से दूर पश्चिम बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। इस कम दबाव का क्षेत्र से संबंधित चक्रवाती परिसंचरण मिडट्रोपोस्फेरिक स्तरों तक फैला हुआ है जिसका ऊंचाई के साथ दक्षिण पश्चिम की ओर झुकाव है। कल, 14 सितंबर, 2020 तक इसके और अधिक चिह्नित होने की संभावना है। इस कम दबाव क्षेत्र और इससे संबद्ध चक्रवाती संचरण के  अगले 4 दिनों के दौरान पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है।
मानसून द्रोणिका  अपनी सामान्य स्थिति के दक्षिण में स्थित है। इसका पूर्वी छोर 17 सितंबर, 2020 तक अपनी सामान्य स्थिति के दक्षिण में बने रहने  की संभावना है। दक्षिण गुजरात के तट से उत्तरी कर्नाटक तट तक औसत समुद्र के तक  पर एक  चलायमान  है। इस ऑफ-शोर द्रोणिका के अगले 5 दिनों के दौरान पश्चिमी तट पर बने रहने की बहुत संभावना है। औसत समुद्र तल पर  मानसून द्रोणिका  बीकानेर, सीकर, शिवपुरी, टीकमगढ़, मंडला एवं उत्तर आंध्र प्रदेश तट से दूर पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर स्थित कम दबाव का क्षेत्र केंद्र से होकर गुजर रही  है।  औसत समुद्र तल के ऊपर 4.5 किमी तक, पूर्वोत्तर अरब सागर और उससे सटे दक्षिण गुजरात तट पर चक्रवाती परिसंचरण बना हुआ है। 
आगामी 24 घंटों के दौरान मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है।
हल्के मध्यम बिजली और वज्रध्वनि के साथ वाली आंधी के हल्की से मध्यम वर्षा की संभावना है 
आगामी 24 घंटों के दौरान भोपाल, विदिशा, आगर, होशंगाबाद, जबलपुर, कटनी,  राजगढ़, शाजापुर, मंदसौर, सीहोर, टीकमगढ़, निवाड़ी, सिवनी, छिंदवाड़ा, डिंडोरी, रायसेन, रीवा, सीधी, सिंगरौली, हरदा, छतरपुर, पन्ना, सतना, अनूपपुर, शहडोल, नीमच,भिण्ड, उमरिया, दमोह, मंडला, बालाघाट, बैतूल, खंडवा, रतलाम, धार, अलीराजपुर, झाबुआ, खरगौन, इंदौर, बड़वानी, देवास, बुरहानपुर,उज्जैन में बिजली और वज्रध्वनि के साथ वाली आंधी   के साथ हल्की से माध्यम वर्षा की संभावन   है।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post