पड़रा रोजगार सहायक को हटाने की मांग

रीवा | मनरेगा में रोजगार सहायक द्वारा व्यापक भ्रष्टाचार किया गया है | रोजगार सहायक ने सजा काट रहे कैदी को ही फर्जी तरीके से मजदूरी दी और राशि उसके खाते में डाल दी हैं जिस पर श्रमिको सहित ग्रामीणों ने रोजगार सहायक को हटाने की मांग की है पड़रा निवासी मोहित द्विवेदी, श्याममणि चतुर्वेदी, पं बालकृष्ण द्विवेदी,राहुल अग्निहोत्री, सहित अन्य ग्रामीणों ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि बिगत माह गांव में मनरेगा योजना के तहत निर्माण कार्य कराया गया था, जिसमे गांव के श्रमिकों ने काम किया था | काम पूरा होने पर श्रमिको को मजदूरी नही मिली, श्रमिको ने रोजगार सहायक से कई बार पैसे दिलाने की गुहार लगाई, पैसे न मिलने पर श्रमिको सहित ग्रामीणों ने मामले की जांच पड़ताल की, जिसमे पाया गया की रोजगार सहायक ने मजदूरी का पैसा फर्जी तरीके से निकाल लिए और हजम कर गया, हद तो तब गई जन रोजगार सहायक ने जेल में सजा काट रहे एक कैदी को भी मनरेगा के मस्टर रोल में दर्ज कर लिया और उसके खाते में भी राशि डाल दी, मामले की जानकारी होने पर ग्रामीणों ने मामले की शिकायत कलेक्टर, सहित रायपुर जनपद में की थी लेकिन आज तक कार्यवाही नही की, ग्रामीणों ने 15 दिवस के अंदर रोजगार सहायक के ऊपर कार्यवाही की मांग की है और बर्खास्त नही करने पर सामजिक कार्यकर्ता रमाकांत त्रिपाठी के नेतृत्व में उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है ।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post