जलभराव वालें क्षेत्रों का प्रोटेम स्पीकर, कलेक्टर और डीआईजी ने किया निरीक्षण

भोपाल। प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा, कलेक्टर अविनाश लवानिया और डीआईजी इरशाद वली  ने शहर के विभिन्न क्षेत्रों का निरीक्षण किया , तालाब, डेम में लगातार बारिश के कारण जल स्तर बढ़ रहा है। और पानी छोड़े जाने से निचली बस्तियों में पानी का भराव हुआ है। व्यवस्था बनाए रखने और प्रभावित लोगो को जल भराव से राहत देने के लिए  कई जगह सुरक्षित जगह पर शिफ्ट किया गया है। श्री लवानिया ने जिले में विगत 2 दिनों से लगातार हो रही बारिश को देखते हुए समस्त अनुविभागीय अधिकारियों और जिला अधिकारियों को मुख्यालय पर रहने के और ग्रामीण क्षेत्रों में सतत रूप से संपर्क बनाए रखने के निर्देश दिए है। श्री लवानिया ने आज सुबह 6 बजे दामखेड़ा क्षेत्र का भ्रमण किया। कोलार, कलियासोत, भदभदा डेम के गेट खोलने पर पानी की अधिकता और जल भराव हुआ है। इन सभी क्षेत्रों सहित कलियासोत डेम से पानी छोड़ने उपरांत जल-भराव की स्थिति निर्मित हुई है। इसके दृष्टिगत कलेक्टर ने तत्काल वहाँ के लोगों को पास के स्कूलों में शिफ्ट कराने और उनके खाने-पीने की व्यवस्था करने के निर्देश सभी एसडीएम और तहसीलदार को दिए है।  शाम को कलेक्टर और डीआईजी ने विसर्जन स्थलों व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया और किसी को भी इन जगहों पर नहीं आने देने के सम्बन्ध में सख्त निर्देश दिए।  श्री लवानिया ने अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे लगातार जल-भराव क्षेत्रों का भ्रमण करें और कहीं भी जल-भराव की स्थिति अथवा आशंका होने तुरंत सुरक्षात्मक कदम उठाएं। साथ ही उन्होंने आवश्यक होने पर कंट्रोल रूम को सूचना देने और एसडीआरएफ, होमगार्ड और रेस्क्यू टीम को तुरंत कार्रवाई के लिए संबंधित क्षेत्र में बुलाया जाए। भोपाल में विगत 2 दिनों से लगातार बारिश हो रही है तेज बारिश के कारण कलियासोत, बड़े तालाब में पानी की आवक बढ़ने के साथ ही आस-पास पानी निकासी की स्थिति निर्मित हुई है जिससे सुरक्षा की दृष्टि से आसपास के लोगों को तुरंत ही निकट के स्कूलों में शिफ्ट कराया गया है। कलेक्टर ने सभी अधिकारियों और पुलिस जवानों को भी निर्देश दिए हैं कि वह 24 घंटे अलर्ट रहें, भोपाल में लगातार बारिश को देखते हुए सचेत रहें और हर परिस्थिति का सामना करने के लिए तुरंत तैयार हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस कंट्रोल रूम पर 24 घंटे अधिकारी तैनात किए गए हैं। सभी घाटों,  डेम, विसर्जन स्थलों पर अधिकारियों की डयूटी लगाई गई हैं। बिजली, पानी और खाने के समान की कहीं भी कमी ना हो, सुचारू रूप दैनिक वस्तुओं की आपूर्ति होती रहें, स्वास्थ्य अमला भी तैनात रहें। गाय, भैंस, बकरी आदि पशुओं की सुरक्षा के लिए सभी आवश्यक कदम उठाएं जाए। जिले के सभी क्षेत्रों के लोगों से सतत संपर्क बनाए रखें।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post