एसओएस बालग्राम खजुरीकलॉं में दिव्यागों ने हर्षोल्लास के साथ मनाया रक्षाबंधन

भोपाल। आज एस.ओ.एस. बालग्राम खजुरीकलॉं (विा बच्चे), भोपाल में निवासरत बालक-बालिकाओं ने हर्षोल्लास के। साथ रक्षा बंधन का पर्व मानाया। बालग्राम परिसर के परीवार गृहों में रहने वाले 105 दिव्यांग बालक-बालिकाओं ने बालग्राम परिसर के भीतर ही रक्षाबंधन पर्व को पूरे रीतिरिवाज से मनाया। इस अवसर पर बालग्राम के बालक-बालिकाओं नेआकर्षक कपड़े पहने व बालग्राम की दिव्यांग बालिकाओं ने अपने भाईयों को तिलक लगाकर आरती उतारी और उनकी कलाई पर स्वयं निर्मित सुन्दर राखियॉं बांधतें हुए उनके दीर्घआयु व स्वस्थ जीवन की कामना की। कोरोना काल के दौरान पिछले कुछ माह से बालग्राम में किसी भी बाहरी व्यक्ति का आना-जाना प्रतिबंधित किया गया है न ही बालग्राम की माताओं व स्टॉफ ने बाहर जाकर राखी की किसी प्रकार की कोई खरीदारीं की व बालग्राम की दिव्यांग बालिकाओं द्वारा अपने हाथों से बनाई गई राखियों को भाईयां की कलाई पर सजाया गया व बालग्राम परीवारगृहों की माताओं द्वारा घर पर ही विभिन्न मिठाईयों एवं स्वादिट व्यंजन बनाये गये जिनकों सभी बच्चों द्वारा बड़े चाव से खाया गया।


प्रत्येकवर्ष बालग्राम के बालक-बालिकाएॅं रक्षाबंधन के अवसर पर प्रदेश  के माननीय राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री को राखी बांधने के लिए उनके निवास पर जाते है और यह प्रथा विगत 25 वर्ष से चली आ रही है परन्तु इस वर्षकोरोना माहामारी के कारण यह आयोजन संभव नही हुआ और बच्चों द्वारा अपने-अपने घरो में ही रहकर रक्षाबंधन पर्व का आनंद लिया। 


एस.ओ.एस बालग्राम भारत का परिचय
एसओएस भारत बच्चों की स्वैच्छिक देखभाल के लिए 1964 में गठित एक गैर-सरकारी संगठन है जो आर्थिक लाभ के लिएकाम नहीं करता है। यह गठन के समय से निरंतर  माता-पिता विहिन बच्चों और निराश्रित बच्चों को ‘परिवार-जैसा’ परिवे प्रदान कर रहा है जिसमें बच्चों को प्यार करने वाली मां, भाई और बहन के साथ प्याराघर और पूरा समुदाय होता है। एस.ओ.एस. बालग्राम भारत का उद्देय इन जरूरतमंद बच्चों को परिवार प्रदान करना है ताकि वे प्यार, सम्मान और सुरक्षा के साथ बड़े हो सके। एस.ओ.एस. बालग्राम भारत एक जाना-माना भरोसेमंद संगठन है और बच्चों की देखभाल करने वाला पहला एनजीओ है जिसे भारत में सक्षम सेवा आपूर्ति एवं उच्च स्तरीय आर्थिक सुदृढ़ता के लिए क्रिसिल की मान्यता मिली है। एस.ओ.एस. बालग्राम भारत को मार्च 2016 और पुनः मार्च 2018 में ट्रेस ने मान्यता प्रदान की है। यह व्यापारिक लेन-देन में पारदर्षिता की प्रतिबद्धता का परिचायक है। एस.ओ.एस. बालग्राम भारत का अथक प्रयास माता-पिता विहिन और निराश्रित बच्चों को यह अवसर देना है कि उन्हें अकेले बड़े होने की लाचारी नहीं रहे और यह संगठन बच्चों की देखभाल के अपने विष कार्यक्रम के माध्यम से उन्हें नई जिन्दगी देने का प्रयास करता है। साथ ही, उन्हें समस्याओं से बचाने के लिए लघुकालिक कार्यक्रमों का संचालन करता है।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post