बरक़तउल्लाह विश्वविद्यालयने तीन वर्ष बाद भी RDC आयोजित नहीं की

भोपाल। बरक़तउल्लाह विश्वविद्यालय द्वारा राजनीति शास्त्र विषय में पीएचडी करने के इच्छुक शोधार्थियों की प्रवेश परीक्षा वर्ष 2017 में  आयोजित की गई थी। उक्त प्रवेश परीक्षा में उत्तीर्ण हुए शोधार्थियों की आरडीसी आज तीन वर्ष बाद भी विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित नहीं की गई है। जबकि वर्ष 2017 में ही उत्तीर्ण हुए अन्य विषयों के शोधार्थियों की आरडीसी कोरोना संकट के कारण आनलाइन कर ली गई है। लेकिन राजनीति शास्त्र विषय के शोधार्थियों के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि प्रत्येक शोधार्थी को अपने शोधकार्य की एक रूपरेखा अपने गाइड के निर्देशन में तैयार कर विश्वविद्यालय को सौंपना पड़ती है।उस रूपरेखा पर विशेषज्ञों की एक समिति शोधार्थी की मौखिक परीक्षा लेती है।इसे आरडीसी कहा जाता है।जब तक आरडीसी न हो जाये तब तक शोध कार्य प्रारंभ नहीं किया जा सकता।शोधछात्रों द्वारा बार बार अनुरोध किए जाने पर बरक़तउल्लाह विश्वविद्यालय द्वारा अधिसूचना दिनांक 26 जून 2020 जारी कर संकाय अध्यक्ष/विभागाध्यक्ष/कोर्स समन्वयक द्वारा उपलब्ध कराई गई ईमेल आईडी पर शोधकार्य की रुपरेखा (सिनाप्सिस) भेजने के निर्देश दिए थे और शोध कार्य की रुपरेखा आन लाइन प्राप्त हो जाने के बाद आन लाइन आरडीसी करने की बात कही गई थी। लेकिन राजनीति शास्त्र विषय के शोधार्थियों को आज दिनांक तक ईमेल आईडी उपलब्ध नहीं कराई गई है और फलस्वरूप शोधार्थी अपनी शोधकार्य की रुपरेखा विश्वविद्यालय को नहीं भेज सके और आरडीसी भी नहीं हो सकी है। शोधार्थी तीन वर्ष से भटक रहे हैं।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post