रेरा ने विडियो कॉन्फ्रेंसिंग से किया 178 प्रकरणों का निपटारा

भोपाल। रेरा-प्राधिकरण द्वारा कोरोना महामारी के चलते पक्षकारों की शिकायतों की सुनवाई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग तथा ऑनलाईन पद्धति से शुरू करने पर इसके अच्छे परिणाम मिले है। कोविड-19 के बीच मई तथा जून माह में रिकार्ड 178 प्रकरणों के निपटारे से पक्षकार लाभान्वित हुए हैं। मई-जून माह में प्राधिकरण ने उसे प्राप्त होने वाली शिकायतों के बदले तीन गुना अधिक प्रकरणों का निराकरण किया। अब कुल निराकिृत प्रकरण 3273 हो गए हैं। देश-विदेश के पक्षकारों ने रखा अपना पक्ष कोविड-19 के बाद जब सुनवाई शुरू हुई तब प्राधिकरण के समक्ष बंद पड़े प्रकरणों की सुनवाई शुरू करना चुनौती था। इस स्थिति में प्राधिकरण ने पक्षकारों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की जो सुविधा उपलब्ध कराई उसके बेहतर परिणाम सामने आए। पक्षकारों ने अपनी-अपनी सुविधा के अनुसार सुनवाई में भाग लिया। जहां पक्षकारों तथा उनके अधिवक्ताओं ने यात्रा के दौरान, गाड़ी में बैठे-बैठे सुनवाई में भाग लिया, वही कुछ पक्षकार देश-विदेश के विभिन्न कोनों में अपने अन्य कार्यों के साथ-साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग सुनवाई में शामिल हुए। जहां महिलाओं ने आवास मिलने में देरी पर भावानात्मक एवं वास्तविक तर्क रखे, वही पुरूष सदस्यों ने तथ्यात्मक बिन्दु भी रखे। कतर से सुनवाई में हुई शामिल संस्कृति देवड़ा को मिला न्याय दोहा कतर से पक्षकार ल संस्कृति देवड़ा वेर्स्टन कॉलोनाईजर्स लिमिटेड के विरूद्ध रेरा में दायर डिलीवरी की तारीख और फ्लैट के कब्जे के संबंध में चल रहे प्रकरण की सुनवाई में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से शामिल हुई। श्रीमती देवड़ा का कहना है, रेरा की सेवाओं से मैं संतुष्ट हूँ। रेरा की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग प्रक्रिया ने सुनवाई को सरल बना दिया है, और मैं रेरा में नही होते हुए भी सुनवाई में भाग ले सकी। कोविड-19 की अवधि में रेरा प्रोजेक्ट पंजीयन में भी पीछे नहीं रहा। प्राधिकरण में मई तथा जून माह में 67 प्रोजेक्टों का पंजीयन किया गया। अब प्रदेश में पंजीकृत प्रोजेक्टो की संख्या कुल 2660 हो गई है।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post