प्लेटफार्म की 100 प्रतिशत टे्न आने पर जलेगी लाइट, ट्रेन जाने पर 50 प्रतिशत

भोपाल मण्डल नें उठाया ऊर्जा संरक्षण में एक महत्वपूर्ण कदम


भोपाल। अब ट्रेन आने पर ही प्लेटफार्म की 100 प्रतिशत लाइट जलेगी और ट्रेन जाने पर 50 प्रतिशत लाइट स्वत: ही बंद हो जाएगी। यह कार्य रातभर स्वत: होता रहेगा। भोपाल मण्डल रेल प्रबंधक उदय बोरवणकर के दिशा निर्देशन में इस अभिनव पहल पर कार्य किया गया, जिसके परिणामस्वरूप ऊर्जा संरक्षण में यह अनूठी पहल सफल हुई। यह व्यवस्था अभी भोपाल स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर-1 पर की गयी है। इस व्यवस्था में प्लेटफार्म नंबर-1 की लाईट को होम सिग्नल एवं स्टार्टर सिग्नल से सफलता पूर्वक जोड़ दिया गया है। इसके अनुसार जब ट्रेन होम पर आएगी और उसे जैसे प्लेटफार्म पर आने के सिग्नल मिलेंगे वैसे ही प्लेटफार्म की 100 प्रतिशत लाईट जल जाएगी और जब तक ट्रेन प्लेटफार्म पर खड़ी रहेगी तब तक सभी लाइट्स जलती रहेंगी और जब गाड़ी को स्टार्टर सिग्नल मिलेंगे और उसके बाद ट्रेन स्टार्टर सिग्नल से जैसे ही गुजरेगी वैसे ही लाइट 50 प्रतिशत स्वत: ही बुझ जाएगी। भोपाल स्टेशन पर लाइट की व्यवस्था 50 प्रतिशत इसलिए की गयी है क्योंकि राजधानी होने के कारण स्टेशन पर यात्रियों का आवागमन अधिक रहता है। इससे पहले मण्डल पर पाइलट प्रोजेक्ट के तहत सफल प्रयोग हरदा स्टेशन पर अभी हाल में ही किया जा चुका है। यहॉ पर ट्रेन के आने पर 100 प्रतिशत लाईट जलती है तथा जाने पर केवल 30 प्रतिशत ही लाईट जलती है अर्थात 70 प्रतिशत की बचत होती है। इससे उत्साहित होकर यह अभिनव पहल भोपाल स्टेशन पर की गयी है। वर्तमान में भोपाल स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर-1 पर शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक (12 घंटे में) लगभग 200 यूनिट बिजली खपत होती है, जो अब घट कर 80 यूनिट रह जाएगी। भोपाल मण्डल पर यह व्यवस्था अन्य स्टेशनों पर लागू करने के लिए कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है। इस महत्वपूर्ण कदम से रेलवे ऊर्जा बचाकर एक ओर जहॉ व्यय को रोकेगा वहीं पर्यावरण संरक्षण की दिशा में भी एक सार्थक प्रयास होगा।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post