उड़नदस्ता और वाइल्डलाइफ वार्डन ने लाखों की अवैध लकड़ी पकड़ी , दो ट्रक और कटर मशीन भी जप्त

भोपाल। सीसीफ रवीन्द्र सक्सेना, डीएफओ एच एस मिश्रा के मार्गदर्शन और एसडीओ एसएस भदौरिया, एसडीओ सुनील भरद्वाज के निर्देशन में वन अपराधो पर लगाम लगाने में चौबीसो घंटे और सातों दिन सक्रिय उड़नदस्ता टीम और जिला वन्यप्राणी अभिरक्षक आसिफ हसन सक्रिय है। इसी तारतम्य में मुखबिर की सूचना पर जिला वन्यप्राणी अभिरक्षक और उड़नदस्ता टीम ने गुरुवार अल-सुबह गोविंदपुरा इंडस्ट्रियल एरिया से एक के बाद एक, कार्रवाई करते हुए दो ट्रक लकड़ी पकड़ने में सफलता हासिल की है। दोनों ट्रको में जंगल और खेतों से अवैध रूप से काटी गई लाखों रुपयों कीमत को इमारती लकड़ी भरी हुई थी। जिसे बेचने के लिए अलग-अलग इलाक़ों से भोपाल लाया गया था। जिला वन्यप्राणी अभिरक्षक आसिफ हसन के मुताबिक मुखबिर की सूचना पर गुरुवार सुबह चार बजे जिला राजगढ़ के ग्राम कोठरी से भोपाल आये ट्रक क्रमांक आरजे 20-जीए-5779 को गोविंदपुरा इंडस्ट्रियल एरिया में रोककर चेक किया गया तो उसमें बबूल और नीम की लकड़ी भारी हुई थी। ड्राइवर से इसके दस्तावेज मांगे गए तो उसने एक टीपी बताई जो कि लकड़ी के जलाऊ गुटको की थी। वैध दस्तावेज नही मिलने पर वाहन को अवैध लकड़ी सहित जप्त कर अहमदपुर लकड़ी डिपो में खड़ा करवा दिया गया। दूसरी और उड़नदस्ता प्रभारी आरके चतुर्वेदी ने बताया कि इस करवाई के बाद एक और मुखबिर की सूचना पर सुबह छह बजे राजधानी भोपाल के पूराछिंदवाड़ा से आम के पेड़ को काटकर अवैध परिवहन कर रहे ट्रक क्रमांक डीएलआईएल-के-2298 को गोविंदपुरा इंडस्ट्रियल इलाके में रोककर चेक किया गया तो इस वाहन में आम की लकड़ी बरामद की गई। पूछताछ करने पर वाहन चालक के पास कोई भी दस्तावेज नहीँ पाए गए। इस वाहन को भी डीपो में खड़ा करवा दिया है। चतुर्वेदी के अनुसार दोनो वाहनों में तक़रीबन डेढ लाख रुपयो कीमत की अवैध रूप से काटी और परिवहन की जा रही इमारती लकड़ी भरी हुई थी। फिलहाल मामले में दोनों वाहन और उसमें भरी लकड़ी की राजसात की कार्रवाई की जा रही है।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post