मांगों को लेकर हड़ताल कर रहे, 35 आयुष चिकित्सक को किया निलंबित

केन्दीय आयुष मंत्री ने दिया आश्वासन, कहा नहीं होगा अन्याय


भोपाल। अपनी मांग उठाने का संविधान ने सभी को अधिकार दिए है उसके बाद भी आयुष कमिश्नर भोपाल को तीन दर्जन डॉक्टरों की मांगे मांनने की बाजाय पहले उनके रजिस्ट्रेशन रद्द करने की चेतावनी दी उसके बाद आज 35 आयुष डॉकटरों की रोजी रोटी और डांका डालने का कार्य किया है। उल्लेखनीय है कि समर्पण जेपी हास्पिटल में कोरोना ड्यूटी में लग कर दिन रात अपनी जांन जोखिल में डाल कर काम कर रहे थे, उसके बाद भी इन्हें मानदेय नही मिल रहा था जिसे लेकर तीन दर्जन डाक्टर हड़ताल पर चले गए उसके बाद थे। आयुष इंटर्न डॉ मनोज सोलंकी ने सम्पर्क किया इंदौर राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा आपके साथ न्याय होगा मे अभी आयुष कमिशनर ने बात करता हू व श्रीपथ नायक केंद्रीय मंत्री से शिकायत की है। लिहाजा केंद्रीय मंत्री श्री नायक ने कहा है कि आपके साथ गलत हो रहा तीन महीने से अपको पैसे नहीं मिला बहुत ही सर्मनाक बात मे इस बिषय मे जरुर बात करुगा उसके बाद आयुष कमिश्नर एमके अग्रवाल से बात कर उचित कार्यवाही कराएंगे। आपको बतादें की लंबे समय से आयुष डॉक्टरों का स्वास्थ्य विभाग द्वारा शोषण किया जारहा अगर किसी ने अपनी मांगों को रखा उसके साथ इसी तरह का सलूक किया जाता है। इस महामारी में हर डॉक्टर्स का अहम रोल है उसके बाद भी अगर उन्हें मानदेय तक के लिए हड़ताल पर जाना पड़ा यह विभाग के लिए दुर्भाग्य का विषय ही है। अब पीड़ित सभी आयुष इंटर्न जे पी हॉस्पिटल मे हडताल पर जाने वाले है जिससे अपनी मांगों को उनके समाने रख सकें।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post