इस साल बादाम के साथ मनायें हेल्‍दी मदर्स डे!

भोपाल। भारत में माताएं अपने परिवार के स्वास्थ्य की रक्षा करती हैं और परिवार के सदस्यों की सेहत को अच्‍छा बनाये रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। हमारी मांओं की दिनचर्या बहुत व्यस्त होती है और इस कारण उनका स्वास्थ्य हमेशा पीछे छूट जाता है। इस मदर्स डे पर आइये अपनी मांओं को सलाम करें और उनका स्वास्थ्य बेहतर बनाये रखने में मदद करें। अपनी माताओं के आहार में छोटे, लेकिन प्रभावी बदलाव कर हम उनके सर्वांगीण स्वास्थ्य में लंबे समय तक योगदान दे सकते हैं। इसकी शुरूआत आहार में एक मुट्ठी बादाम को जोड़कर की जा सकती है, क्योंकि बादाम न केवल पौष्टिक स्नैक हैं, बल्कि स्वास्थ्य को कई लाभ भी देते हैं, जैसे वजन पर नियंत्रण, हृदय का स्वास्थ्य, त्वचा का स्वास्थ्य और मधुमेह। बॉलीवुड की प्रमुख अभिनेत्री सोहा अली खान ने कहा, “मेरा मानना है कि हमें अपने परिवारों के साथ-साथ खुद की सेहत को भी बराबर से प्राथमिकता देनी चाहिए। माताओं के रूप में, हम अपने स्वयं के स्वास्थ्य की उपेक्षा करती हैं और अपने परिवार के हित और स्वास्थ्य को अत्यधिक महत्व देती हैं। एक व्यस्त चर्या और परिवार की देखभाल करने वाली माताओं के लिए, खाने का अधिकार प्राथमिकता होनी चाहिए। मैं बादाम पर भरोसा करती हूँ, क्योंकि वे 15 पोषक तत्वों जैसे कि विटामिन ई, मैग्नीशियम, प्रोटीन, राइबोफ्लेविन, जिंक आदि का स्रोत हैं। मैं शूटिंग और अन्य व्यस्तताओं के लिए अक्सर यात्रा करती हूँ, इसलिए अपने साथ मुट्ठीभर बादाम जरूर रखती हूँ, ताकि मेरे पास हमेशा एक हेल्‍दी स्‍नैक रहे।


फिटनेस के प्रति उत्साही और सुपरमॉडल मिलिंद सोमन ने कहा, “हमारी दुनिया हमारी माताओं के साथ शुरू और खत्म होती है - और यहां तक कि उन्हें देखते हुए, हम हेल्‍थ और वेलनेस के बारे में बहुत कुछ सीखते हैं। मुझे बहुत सारी स्वस्थ आदतें मेरी मां से मिलीं। जब मैं बड़ा हो रहा था, उन्होंने सुनिश्चित किया कि मैं अपने नाश्ते में बादाम को शामिल कर अपने दिन की हेल्‍दी शुरुआत करूं। अब वह 81 वर्ष की हो गई हैं, पर वह अभी भी सुनिश्चित करती है कि मुझे सुबह बादाम मिले, और मैं चाहता हूँ कि उसे भी मिले! हर माँ के लिए, फिर चाहे वह एक कामकाजी माँ हो या घर पर रहने वाली माँ हो, प्रतिबद्धताओं की एक अंतहीन सूची है। मातृत्व, घरेलू कर्तव्यों, कार्य जीवन और सामाजिक प्रतिबद्धताओं को संतुलित करते हुए, उसका अपना स्वास्थ्य हमेशा पीछे छूट जाता है। एक स्वस्थ और अच्छी तरह से संतुलित जीवन शैली का पालन करना जैसे कि हर दिन बादाम का सेवन करना और एक शारीरिक गतिविधि में संलग्न होकर, एक स्वस्थ, अधिक टिकाऊ जीवन शैली का नेतृत्व कर सकते हैं।


शीला कृष्णास्वामी, न्‍यूट्रीशन एवं वेलनेस कंसल्‍टेंट ने कहा “मैं हमेशा एक स्वस्थ जीवन शैली को बनाए रखने के महत्व पर जोर देती हूं, खासकर माताओं के लिए। ऐसा करने का एक तरीका है, संतृप्त वसा के सेवन को कम करना और उन्हें उन खाद्य पदार्थों से बदलना, जो बादाम जैसे मोनोअनसैचुरेटेड वसा से समृद्ध हैं। इनमें भरपूर मात्रा में  पोषक तत्व होते हैं और यह प्रोटीन का एक समृद्ध स्रोत भी हैं। मेरा मानना ​​है कि एक बार घर में माँ एक मिसाल कायम करती है और एक सकारात्मक बदलाव करती है, परिवार के लिए इसका पालन करना बहुत आसान होता है।”
माधुरी रुइया, पिलेट्स एक्सपर्ट और डाइट एवं न्यूट्रिशन कंसल्टेंट के अनुसार, “आज की व्यस्त जीवनशैली के बीच, हर माँ, चाहे वो बूढ़ी हो या युवा, को अपने स्वास्थ्य का जायजा लेना ज़रूरी है। एक सुविधाजनक अभी तक स्वस्थ चीज जो हर माँ कर सकती है वह है बादाम को अपने दैनिक आहार में शामिल करना। इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा, क्योंकि शोध से पता चलता है कि बादाम ब्‍लड शुगर के स्वस्थ स्तर को बनाए रखने में मदद कर सकती है, टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित मरीजों में ब्‍लड शुगर कंट्रोल में सुधार ला सकती है और कार्बोहाइड्रेट खाद्य पदार्थों के ब्‍लड शुगर पर प्रभाव को कम करने में मदद करती है, जो फास्टिंग इंसुलिन के स्तर को प्रभावित करता है।


इस बात को आगे बढ़ाते हुए, रितिका समद्दर, क्षेत्रीय प्रमुख - डायटेटिक्स, मैक्स हेल्थकेयर-दिल्ली ने कहा, “लापरवाही और खुद की देखभाल करने की कमी लंबे समय में डायबिटीज या हृदय रोग जैसे बड़े स्वास्थ्य मुद्दों को जन्म दे सकती है। इसलिए, माताओं को अपनी जीवन शैली और स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होने की आवश्यकता है। उन्हें अपने भोजन के सेवन के बारे में अधिक सचेत होकर शुरुआत करनी चाहिए, और अपने आहार में बादाम जैसे स्वस्थ नट्स को शामिल करना चाहिए, ताकि वे अस्वास्थ्यकर स्नैक्स से बच सकें। वैज्ञानिक प्रमाणों के अनुसार एक बड़े शरीर में हृदय रोग के जोखिम कारकों को प्रबंधित करने में मदद करने में बादाम फायदेमंद हो सकता है। हाल के एक अध्ययन में यह भी बताया गया है कि स्वस्थ आहार के हिस्से के रूप में 45 ग्राम बादाम को शामिल करने से डिसिप्लिडिमिया को कम करने में मदद मिल सकती है, यह उच्च एलडीएल-कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड लेवल और निम्न एचडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तर के कारण सामने आने वाली एक स्थिति है, जिसे भारतीयों में हृदय रोगों के लिए सबसे महत्वपूर्ण जोखिम कारकों में से एक माना जाता है। इस साल, आइये अपनी मांओं के आहार और स्वास्थ्य को बेहतर बनाते हुए उनके लिये इस खास दिन को यादगार बनायें। यदि माताएं स्वस्थ रहेंगी, तो परिवार भी स्वस्थ रहेंगे!


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post