आशा, ऊंषा कार्यक र्ताओं को कोविड़19 में प्रोत्साहन राशि 10 हजार की जाए: लक्ष्मी कौरव

भोपाल। कोराना संक्रमण से बचाव को लेकर सहयोग कर रही आशा, ऊंषा व आशा सहयोगिनी कर्मचारियों को प्रोत्साहन राशि 10 हजार रूपये दिए जाने की मांग संघ के द्वारा की गई है। आशा, ऊंषा व आशा सहयोगिनी संघ की प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि विश्व माहमारी आपदा कोविड 19 के  तहत जमीनीस्तर पर कोरोना सर्वेक्षण कर संभावित को चिन्हितकर परीक्षण के लिए अस्पताल भेजना, प्रतिदिन सूचना प्रदान करना  स्वास्थ्य सेवा प्रदान करना शासन के दिशा निर्देशों का पालन करवाना जागरूकता करना और कोरोन्टाईन किये गए लोगों का प्रतिदिन फॉलोअप करना जैसी जोखिम भरी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी इस विषम परिस्थिति में भी बगैर किसी सुरक्षा संसाधन के पूर्ण निष्ठा एवं ईमानदारी से निर्वहनकर ही है। सरकार ने भी आशा एवं  सहयोगिनी कार्यकर्ताओं को रोना योद्धा की संज्ञा दी है और कार्यकुशलता की सराहना की है लेकिन कोविड 19 के विरूद्ध समर्पण भाव से बिना वेतन के कार्य कराने वाली प्रथम पंक्ति की आशा एवं सहयोगिनी कार्यकर्ताओं की अहम भूमिका को अनेदखा करते हुए अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को दी जाने वाली 10 हजार रूपये की अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि से वंचित रखा गया है वहीं इनका कोराना टेस्ट भी नहीं करवा गया है साथ ही बचाव केलिए किट भी प्रदान नहीं की गई है। आशा, ऊंषा व आशा सहयोगिनी संघ की प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मी कौरव ने मांग की है कि प्रोत्साहन राशि 10 हजार रूपये दिया जाकर, सुरक्षा किट व कोरोना टेस्ट अनिवार्य करवाया जाए।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post