मंहगाई भत्ता दिए जाने वेसेरेम संघ ने महाप्रबंधक को लिखा पत्र

भोपाल। देश में कोरोना वायरस के चलते सेंट्रल रेलवे ने कर्मचारियों के महंगाई भत्ते दिए जाने पर रोक लगा दी है जिसके लिए वेसेरेम संघ के कार्यकारी महामंत्री के द्वारा महाप्रबंधक को पत्र लिखा गया है। केंद्र सरकार कोरोना जैसी महामारी में भी रेलवे कर्मचारियों से कार्य ले रही है वह भी जब पूरे देश में सभी शासकीय व निजी क्षेत्रो में कार्य पूरी तरह से बंद है। सरकार ने आम जनता को घर से बाहर निकलने के लिए पूरी तरह से मना किया हुआ है और  लॉक डाउन घोषित किया हुआ है जिसके पालन के लिए शहर में पुलिस भी लगी हुई है। उस माहौल में रेलवे कर्मचारी अपनी जान की परवाह किये बिना रात दिन कार्य में लगे हुए है।उसके बाद भी  मंहगाई भत्ता रोकना न्याय संगत नही है वेसेरेम संंघ के भोपाल मीडिया प्रभारी रोमेश चौबे  ने बताया कि सभी रेलवे कर्मचारी कोविड 19 जैसी महामारी में भी अपनी और अपने परिवार की जान जोखिम में डालकर काम करने को मजबूर है वो पहले ही अपना जीवन दांव पर लगा चुके है। लेकिन फिर भी अपना काम बखूबी कर रहे है उनको न तो अभी तक बीमा कवर मिला है न ही कार्य के दौरान कोई खास सहूलियत दी गई है और न ही किसी मीडिया या नेता द्वारा रेलवे कर्मचारियों का उत्साह वर्धन किया गया है । ऊपर से महंगाई भत्ता बंद किया जाना उचित नहीं है कम से कम ऐसे  कर्मचारियों के लिए जो इस समय भी कार्य कर रहे है जब पूरा भारत बंद है।  इसके लिए आवाज उठाना जरूरी है नहीं तो कल को कुछ और बंद करने का प्लान बनाने में भी सरकार को देर नहीं लगेगी।NFIR/के महामंत्री डॉ एम राघवैया ने DOPT और कैबिनेट सचिव को पत्र लिख कर बताने का काम किया है कि अपने महंगाई भत्ता के फैसले को रिव्यु कीजिये,इस पर आश्वस्त किया गया है कि लॉक डाउन के बाद मीटिंग करके इस मुद्दे का हल निकाल लिया जाएगा। साथ ही वेस्ट सेंट्रल रेलवे में वेसेरेम संघ के अध्यक्ष आर पी भटनागर और महामन्त्री अशोक शर्मा के दिशानिर्देश पर कार्यकारी महामन्त्री सतीश कुमार द्वारा महाप्रबंधक को पत्र लिखकर इसका विरोध किया गया ।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post