मंदी का असर आद्योगिक में सामने आने लगा, जेके टायर के नेतृत्व ने स्वेच्छा से अपने वेतन में कटौती की

भोपाल। भारत में रेडियल टेक्नॉलॉजी में अग्रणी, जेके टायर विविधीकृत एवं बहुराष्ट्रीय कंपनी है। सप्लाई चेन में मंदी एवं रुकावट के चलते टायर उद्योग मुश्किल दौर से गुजर रहा है। कोविड-19 महामारी ने स्थिति को और ज्यादा गंभीर बना दिया है। इस स्थिति के इससे भी ज्यादा खराब होने के आसार हैं। जेके टायर के चेयरमैन एवं मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ रघुपति सिंघानिया ने कहा मौजूदा समय में हम बहुत मुश्किल दौर से गुजर रहे हैं। कोरोना वायरस के चलते हमारी सेल्स एवं लाभ पर बुरा असर पड़ा है। इस चुनौतीपूर्ण स्थिति से उबरने के लिए जेके टायर की टीम हर संभव कोशिश कर रही है। इस आपातकालीन समय दृढ़ता के साथ खड़े रहने के लिए हमारी टीम ने अपने वेतनों में कटौती करने का निर्णय लिया है। उन्होंने आगे कहा जेके टायर के चेयरमैन एवं होल टाईम डायरेक्टर्स ने स्वेच्छा से अपने वेतन में 25 प्रतिशत की कटौती की है तथा वरिष्ठ प्रबंधन में अन्य सदस्यों ने अपने वेतन में 15 से 20 प्रतिशत घटाए हैं। वेतन की कटौती इसके वैश्विक ऑपरेशंस के लिए भी की गई है। कंपनी ने अपने कर्मचारियों एवं उनके परिवारों का कल्याण सुनिश्चित करने के लिए विस्तृत प्रयास भी किए हैं।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post