कोर्टयार्ड बाय मैरियट में ‘उस्तादों की जुगलबंदी’ फूड फेस्टीवल आरंभ

मुगलई और अवधी की वेज व नानवेज डिशेज के बीच हो रही टक्कऱ


भोपाल। शहर के फूड लवर्स के लिए कोर्टयार्ड बाय मैरियट, भोपाल के फाइन डायनिंग रेस्टारेंट - बे लीफ - में 13 से 22 मार्च तक शाम 7.30 से रात 11 बजे तक उस्तादों की जुगलबंदी फूड फेस्टीवल आयोजित किया जा रहा है। इस फूड फेस्टीवल में दो अलग-अलग डिशेज के एक्सपर्ट शेफ्स के बीच एक अनूठी जुगलबंदी देखने को मिल रही है। इस दस दिवसीय फूड फेस्टीवल में दिल्ली का खाना और लखनऊ का जायका के बीच स्वाद से भरा मुकाबला हो रहा है जिसमें वेज एवं नानवेज स्टार्टर्स से लेकर मेन कोर्स और अंत में खाये जाने वाले मीठे डेजर्ट्स तक तमाम लजीज डिशेज मेहमानों को सर्व की जा रही हैं।  
 
इस फेस्टीवल में मास्टरशेफ आशीष अपने दिल्ली के मुगलई व्यंजनों की नुमाइश कर रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर मास्टरशेफ मोहम्मद आसिफ अवधी डिशेज में अपने लखनवी अंदाज़ का तड़का लगा रहे हैं। साथ ही दोनों शेफ अपने हुनर से उस भ्रांति को भी दूर कर रहे हैं कि ये दोनों कैसे मिलती-जुलती होकर भी अलग-अलग होती हैं।
 
रवीश मिश्रा, एग्जिक्यूटिव शेफ,़ कोर्टयार्ड बाय मैरियट, भोपाल ने आज जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि, उस्तादों की जुगलबंदी में हम एक ही छत के नीचे दिल्ली का खाना और लखनवी जायका को पेश कर रहे हैं। यहाँ शेफ़ आशीष कटहल की शम्मी, चंगेजी मुर्गी, गोश्त के कोफ्ते और दौलत की चाट आदि के मुगलई स्वाद से रूबरू करा रहे हैं तो वहीं अवधी डिशेज के जानकार शेफ़ आसिफ द्वारा बेहतरीन मसालों में पकाई गयी काकोरी, पर्दा रान, गलौती, मुस्सलम, कोरमा और दम बिरयानी के साथ-साथ तरह-तरह की वेज डिशेज़ भोपाल के फूड लवर्स को यह सोचने पर मजबूर कर रही है कि वे कौनसी डिश पहले चखें।  


विजयन गंगाधरन जनरल मैनेजर, कोर्टयार्ड बाय मैरियट, भोपाल, ने इस आयोजन के बारे में कहा कि, हमारा प्रयास रहता है कि हम अपने मेहमानों को देश और दुनिया के फूड और उससे जुड़े लंबे कल्चर से अवगत करा सकें। उस्तादों की जुगलबंदी हमारी इसी कोशिश का हिस्सा है। इस फेस्टीवल में भोपालवासी दस दिनों तक एक ही जगह पर दो अलग अलग संस्कृतियों के व्यंजनों के स्वाद को चखेंगे।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post