किसानों और वैज्ञानिकों के सुझावों पर कार्य किया जाएगा: कृषि मंत्री

दो दिवसीय चिली फेस्टिवल का समापन

खरगोन। प्रदेश के कृषि, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण मंत्री सचिन यादव ने दो दिवसीय चिली फेस्टिवल के समापन अवसर पर कहा कि सरकार मप्र में कृषि उद्यानिकी क्षेत्र को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगी। इस फेस्टिवल के दौरान किसानों, व्यापारियों और वैज्ञानिकों ने जो-जो भी अच्छे सुझाव दिए है, उन पर सरकार कार्य करेगी। साथ ही इस तरह मप्र सरकार में फसलों का चिन्हांकन करते हुए ब्रांडिंग के कार्य व आयोजन करेगी, जिससे किसानों को मार्केटिंग सहित कृषि व्यापार को समझने के पयाप्त अवसर मिल सके और उनमें तकनीकी पहलुओं व मिट्टी की उर्वरा शक्ति के प्रति नया माहौल बन सके। समापन अवसर पर जिलों से आए प्रगतिशील किसानों को सम्मानित किया गया। इनमें आधुनिक तरीके अपनाकर खेती करने वाले किसान महिला किसान और युवा किसानों को भी सम्मानित किया गया। वहीं इस दो दिवसीय आयोजन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले अधिकारियों का आभार मानते हुए प्रमाण पत्र और शील्ड प्रदान की गई।

कसरावद में आयोजित दो दिवसीय चिली फेस्टिवल का दूसरा दिन रविवार किसानों के लिए बड़ा ही महत्वपूर्ण साबित हुआ। दूसरे दिन वैज्ञानिकों और कृषि विशेषज्ञों ने सारगर्भित जानकारियां दी। वही प्रगतिशील किसानों ने भी अपना व्यावहारिक ज्ञान किसानों के समक्ष रखा। किसानों के बीच 32 वर्षो से कार्य कर रहे डॉ. रविंद्र पस्तोर ने किसानों से कहा कि मालवा निमाड़ का किसान प्रदेश के अन्य किसानों से 60 वर्ष आगे की खेती कर रहे है। अब खेती किसानी एक व्यवसाय बन गया है। इस व्यावसायिक खेती को किसान मार्केटिंग का तड़का लगा दे, तो निश्चित भरपूर लाभ ले सकता है। डॉ. पस्तोर ने किसानों के उत्पाद और बाजार के बीच की कड़ी को दूर करने के उपाय सुझाएं। साथ ही उन्होंने किसानों द्वारा खरीदे जाने वाले कृषि आदान की लागत पर होने वाले असर पर भी महत्वपूर्ण जानकारी दी। डॉ. पस्तोर ने किसानों से कहा कि किसान मंडी में ग्रेडिंग के साथ अपनी उपज बेचे ऐसे प्रयास उन्हें और सरकार दोनों तरफ से होने चाहिए। तकनीकी पूरे सत्र के दौरान कृषि मंत्री सचिन सुभाष यादव, पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव, उद्यानिकी आयुक्त एम. काली दुराई, कलेक्टर गोपालचंद्र डाड, पुलिस अधीक्षक सुनील पांडेय, जिला पंचायत सीईओ डीएस रणदा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

व्यापारी दो गुना दाम पर बेचता है-

डॉ. पस्तोर ने किसानों को मंडी उनके द्वारा बेचे जाने वाले उत्पाद के भाव के आंकलन के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि जब किसान उपज मंडी में ले जाता है, तो व्यापारी उपज को देखकर भाव लगाता है। फिर उसी उपज को व्यापारी ग्रेडिंग करके 2 गुना दाम पर प्रोसेसर को बेंचता है। फिर प्रोसेसर से एक्सपोर्टर 2 गुना दाम पर खरीदता है। अगर किसान पैकेजिंग ऑफ प्रेक्टिस कर ले, तो वो सीधे एक्सपोर्टर को भी बेच सकता है। इसके लिए किसानों को उत्पादक संस्थाएं बनानी होगी, जो बड़ा ही आसान काम है। वही मंडी में ग्रेडिंग करके भी बेचे तो कही अधिक मुनाफा होगा। डॉ. पस्तोर ने चिली महोत्सव को लेकर कहा कि फसल आधारित कार्यक्रम को सराहनीय पहल बताया।

कीट व्याधि के लिए कई विकल्प-

तकनीकी सत्र में इंदौर के वरिष्ठ एग्रो नॉमिस्ट मुरलीधर अय्यर ने कहा कि फसलों में लगने वाले कीट व्याधियों को को किसान कई तरीके से समाप्त या नियंत्रित कर सकता है। इसके लिए उनको सबसे पहले पारंपरिक विधि का उपयोग करना चाहिए। इसके बाद यांत्रिक, जैविक, वानस्पतिक और अंत में रासायनिक विधि का उपयोग करना चाहिए। ऐसा करने से लागत भी कम होगी और स्वास्थ्य का भी ध्यान रख सकता है। श्री अय्यर ने कहा कि फसल के आर्थिक नुकसान को निश्चित तौर पर ऊपर रखना चाहिए। टपक सिंचाई में जैविक और रासायनिक जल विलय खादों का समंवित उपयोग करे, तो लाभ ही होगा। तकनीकी सत्र के दौरान वैज्ञानिकों ने ड्रिप इरीगेशन, पानी के पीएच मान, पल्स इरीगेशन, फ्लूड इरीगेशन और उत्पादों को एगमार्क करके कैसे लाभ ले सकते है, इन बिंदुओं के बारे में भी बताया गया। साथ ही किसानों को उनके उत्पाद को एगमार्क लेने की प्रक्रिया ऑनलाईन समझाई गई। इस प्रक्रिया में 10 हजार रूपए खर्च करके प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकता है। इस एगमार्क के साथ किसान अपने उत्पाद की अच्छी ब्रांडिंग कर सकता है।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post