हिन्दू ज्योतिष शास्त्र पहले ही लिख चुका था इस महामारी का आंकलन

भोपाल। भारतीय ज्योतिष पंचांग के 2019 के वार्षिक कलेंडर में  इस महामारी जैसी आपदा का वर्णन पहले ही लिखा जा चुका था। जिसे आज वैज्ञानिक कई नाम देने व बचाव के लिए प्रयासरत हैं। ज्योतिष हमारे देश में  या कहें हमारी संसकृति में व हिन्दु धर्म में बहुत महत्व रखती है। व्यक्ति के जन्म से लेकर मृत्यु तक के बीच के जीवन में ज्योतिष को महत्व दिया जाता है। ज्योतिष के एैसे कई पूर्वानुमान लेख हुए हैं जो कहीं न कहीं सत्य साबित हुए हों। इस दुनिया में किसी भी तरह की प्राकृतिक आपदा व विपदा का पूर्व आंकलन ज्योतिष विद्या के आधार पर लगभग सही किया जा सकता है। एैसे कई राजनेता, महापुरूष, अभिनेता, या उद्योगपति अधिकारी हुए हैँ जिनकी जन्म कुण्डली या ज्योतिष के आंकलन पर उनका भविष्य दर्शाया गया था। हालांकि इस ज्योतिष को वैज्ञानिक युग में जगह नहीं दी गई। लेकिन फिर भी आज एैसे कई राजनेता व अभिनेता उद्योगपति हैं जो आज भी ईश्वर व ज्योतिष के आधार पर ही अपनी जीवन शैली को अपनाए हुए हैं। आज पूरी दुनिया हिन्दु संस्कृति व ज्योतिष का लोहा मानती है। उसका ताजा उदाहरण वर्तमान में हुए कोरोना वायरस जैसी महामारी का है। जिसका वर्णन ज्योतिषाचार्य ने अपने रविवार 12/5/2019 के दिन पंचांग में स्पष्ट उल्लेख दिया गया था। जिसमें धार्मिक हिंसा व युद्ध जनित  परिस्थितियां उत्पन्न होंगी।धार्मिक विषयों परतीव्र मतभेद होगा। विश्व के शेयर बाजारों में अनिश्चितता का वातावरण रहेगा। किसी विषाणु जनित महामारी का प्रकोप होगा। इतना सब भविष्य सिर्फ ज्योतिष ही दर्शा सकता है। वैज्ञानिक ने कभी भी इस तरह की आपदाओं को जनता के सामने नहीं दर्शाया। ना हीं कहीं इसका उल्लेख किया गया। इस लेख से यह तो प्रमाणित होता है कि हर भविष्य में होने वाली घटना का आंकलन ज्योतिष में छुपा हुआ है बस उसका सही आंकलन कर सके।


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post