चिंतन-- विदिशा जिले की खेल प्रकोष्ठ अध्यक्ष  कांग्रेस के हालात पर अपने विचार

 


कांग्रेश में जो इस समय चल रहा वह बेहद दुखद है। लगभग 150 साल पुरानी  कांग्रेस आज वरिष्ठ नेतृत्व  में चल रही गुटबाजी के चलते प्रदेश की  ही नहीं देश में पार्टी की साख गिरती जा रही है। यहां पर पार्टी की कम अपने वर्चस्व की लड़ाई अधिक देखने को मिल रही है। इसी गुटबाजी के चलते पार्टी 15 साल सरकार बनाने में असफल रही। अब जब सरकार बन गई है और हमारे प्रिय नेता कमलनाथ के नतृत्व में  सहजता के साथ सभी को लेकर चल रही है। लेकिन फिर भी यह गुटबाजी समाप्त नहीं हो रही है।  लड़ाई सिर्फ कांग्रेस के लिए लड़ना चाहिए। सभी की गुटबाजी खत्म हो ओर एक रहना  चाहिए। जिस प्रकार एक क्षेत्र में 4 गुटों से  चार टिकट मांगने वाले होते हैं एक गुट के नेता को टिकट मिल जाए तो  क्या 3 गुट के लोग विरोध में खड़े हो जाएंगे। इसलिए पार्टी कमजोर होती है एक को टिकट मिलता है वह तीन विरोध में खड़े रहते हैं यह एक प्रदेश की स्थिति नहीं है पूरे भारत की स्थिति है यही स्थिति कांग्रेस पार्टी को कमजोर कर रही है इसमें सभी बड़े नेताओं की भी हानि है क्योंकि वह भी एक दूसरे के प्रति विरोधाभास रखते हैं जो जमीनी स्तर तक पहुंच चुका है यही कांग्रेस पार्टी की सबसे बड़ी कमजोरी है । एक दूसरे के प्रति सम्मान होना चाहिए यही मेरी लड़ाई है एकता में ही सब कुछ संभव है। सरकार को मजबूती प्रदान करने के लिये  जमीनी कार्यकर्ता से लेकर वरिष्ठ  नेतृत्व तक एक जुट रहना है।


आलेख


रशीदा खानम 


कांग्रेस के हालात पर अपने विचार


0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post