राजा साहब से मेरी पहली बार मुलाकात नहीं हो रही: सिंधिया

भोपाल आकर गुना के लिए रवाना हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री  

भोपाल। सियासी गलियारों में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की मुलाकात की खबरों के बीच आज ससिंधिया दिल्ली से भोपाल पहुंचे। इस दौरान जब मीडिया ने उनसे दिग्विजय से मुलाकात को लेकर सवाल किया तो सिंधिया ने कहा कि बड़ी अजीब बात है दिग्विजय सिंह से आज पहली बार मुलाकात हो रही क्या? राजा साहब से मेरी पहली बार मुलाकात नहीं हो रही है। हर महीने में मुलाकात होती है। कोई बड़ी बात नहीं है। आज गुना में है कल दिल्ली में है परसों कहीं और मुलाकात होती रहती है। यह एक सामान्य मुलाकात है, उनसे मिलना होते रहता है, इसमें कुछ खास बात नहीं।

भोपाल में कुछ देर रुके सिंधिया से मीडिया ने कई सवाल दागे। पार्टी के किसी भी मामले को लेकर बोलने से बचते नजर आए। राज्यसभा जाने को लेकर कहा कि इसका फैसला पार्टी करेगी, जो कांग्रेस पार्टी तय करेगी उसके साथ में सहमत हूं। पीसीसी चीफ का फैसला अब तक नही होने के सवाल पर कहा वह आप महासचिव से पूछे मुझसे क्या पूछ रहे हैं।

असल में सियासी गलियारों में चर्चा है कि आठ साल बाद गुना में फिर दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया सर्किट हाउस के बंद कमरे में 45 मिनट तक बैठक करने वाले है। हालांकि सिंधिया के टूर प्रोग्राम में इसका जिक्र नही है, वही दिग्विजय के भी संशोधित टूर प्रोग्राम में इसको हटा दिया गया है, जबकि पहले वाले टूर प्रोग्राम में मुलाकात का जिक्र था। ऐसे में संशय की स्थिति बनी गई थी कि सिंधिया और दिग्विजय की मुलाकात होगी या नही। यह मुलाकात ऐसे समय में हो रही है जब सिंधिया कई बार खुलकर नाराजगी जाहिर कर चुके हैं।

मुलाकात के कई मायने हैं

 दोनों दिग्गजों की मुलाकात को लेकर कई नेता मायने निकाल रहे हैं। नेता दबी जुबान में यही कहते नजर आ रहे हैं कि दिग्गी और सिंधिया की बैठक प्रदेश अध्यक्ष और राज्यसभा की सीट की रणनीति को लेकर है।24 फरवरी को गुना में कांग्रेस के कई दिग्गज रहेंगे। सिंधिया के साथ प्रदेश के 5 मंत्री रहेंगे। प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री इमरती देवी रविवार की शाम ही पहुंच गईं। स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट, खाद्य एंव आपूर्ति मंत्री प्रद्युम्न सिंह, नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिंह, शिक्षा मंत्री प्रभुराम चौधरी, परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत और श्रममंत्री महेन्ध सिसौदिया सहित कई नेता शामिल रहेंगे। सिंधिया भी लगभग 8 माह बाद गुना आ रहे हैं। इस दौरान 4 बार उनका दौरा कार्यक्रम बना और निरस्त हो गया।वही पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह गुना आ रहे हैं लेकिन वे अपने गृह क्षेत्र यानि राघौगढ़ नहीं जाएंगे। वे कई सालों से राघौगढ़ नहीं गए हैं।

ट्रंप की यात्रा: भारत के हित में मुद्दे उठें

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे पर सिंधिया ने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति भारत आ रहे हैं , उनका स्वागत हो रहा है, होना भी चाहिए और उसी के साथ भारत के हित में भी मुद्दे उठने चाहिए। केवल मुद्दे उठना ही नहीं चाहिए मुद्दों का निचोड़ भी निकलना चाहिए। किसी भी देश के नेतृत्व करने वाले व्यक्ति का भारत में धूमधाम से स्वागत होना चाहिए। अतिथि देवो भव की हमारी संस्कृति है पर उसके साथ जो चर्चाएं भी होगी। जब कोई भी हेड ऑफ स्टेट आता है तो चर्चाएं होती है उसमें हमें देखना होगा इस 2 दिन के दौरे में भारत के लिए भी अच्छे परिणाम निकलें, इस बात पर सबसे ज्यादा मूल्यांकन हमें करना है।

दोहराई सड़क पर उतरने की बात 

सिंधिया ने विपक्ष को नसीहत देते हुए कहा कि विपक्ष को मेरे लिए लडऩे की जरूरत नहीं है। मैं अपने आप के लिए लडऩे के लिए सक्षम हूं । बीजेपी की तरफ से लगातार हो रही बयानबाजी पर सिंधिया ने चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि विपक्ष को मेरे लिए लडऩे की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा, मैं अपने आप के नही लिए लड़ रहा हूं मैं प्रदेश की जनता के लिए लड़ रहा हूं, जो मैं पिछले 16 से 17 सालों से कर रहा हूं, यह कोई नई बात नहीं है। मैंने जो रास्ता लिया है वह जनसेवा का रास्ता है। जनसेवा में हमें लोगों का मुद्दा उठाना जरूरी है मैंने यही कहा है 1 साल हुआ है सब्र रखना है हमारे वचन पत्र में जो भी लिखा है। हम 5 साल में पूरा करेंगे, अगर पूरा नहीं हुआ तो हमें जनता के साथ खड़ा रहना होगा।

0/Post a Comment/Comments

Previous Post Next Post